Home » इंडिया » Delhi riots: Former JNU student Umar Khalid arrested by Delhi Police under UAPA
 

दिल्ली दंगे: पूर्व JNU छात्र उमर खालिद को दिल्ली पुलिस ने UAPA के तहत किया गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 September 2020, 8:56 IST

Delhi riots case: दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को 13 सितंबर देर रात दिल्ली दंगों के मामले में गिरफ्तार किया है. उमर खालिद को गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम Unlawful Activities (Prevention) (UAPA) के तहत आरोपित किया गया है, जिन्हें 14 सितंबर को दिल्ली की अदालत में पेश किया जाएगा. समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि दिल्ली पुलिस की एक स्पेशल सेल ने खालिद को 11 घंटे तक पूछताछ करने के बाद गिरफ्तार किया. उनसे पहले दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने 2 सितंबर को पूर्वोत्तर दिल्ली दंगों के सिलसिले में पूछताछ की थी.

नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के समर्थकों और इसका विरोध कर रहे लोगों के बीच 24 फरवरी को पूर्वोत्तर दिल्ली में सांप्रदायिक झड़पें हुईं, जिसमें कम से कम 53 लोगों की जान चली गई. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार खालिद को शनिवार को तलब किया गया था और रविवार को लोदी कॉलोनी में विशेष सेल कार्यालय में जांच में शामिल होने के लिए कहा गया था. उमर खालिद से 31 जुलाई को पूछताछ की गई थी, जब उसका फोन जब्त कर लिया गया था. पुलिस सूत्रों के अनुसार आने वाले दिनों में पुलिस खालिद के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर सकती है.


 

पुलिस के अनुसार 6 मार्च को क्राइम ब्रांच की नारकोटिक्स यूनिट के उप-निरीक्षक अरविंद कुमार को एक मुखबिर द्वारा दी गई सूचना के आधार पर खालिद के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी. FIR के अनुसार कुमार ने कहा कि मुखबिर ने उन्हें बताया कि फरवरी में पूर्वोत्तर दिल्ली के दंगे साजिश जा हिस्सा थे, जिसमें खालिद और अन्य लोगों की भूमिका थी. FIR में कहा गया है “खालिद ने कथित रूप से दो अलग-अलग स्थानों पर भड़काऊ भाषण दिया और लोगों से अपील की कि वे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान सड़कों पर आएं और सड़कों को अवरुद्ध करें ताकि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार किया जा सके कि भारत में अल्पसंख्यक कैसे हैं? उन्हें सताया जा रहा है.”

कुमार ने प्राथमिकी में आरोप लगाया कि साजिश के तहत कर्दमपुरी, जाफराबाद, चांद बाग, गोकुलपुरी, शिव विहार और आस-पास के इलाकों में आग्नेयास्त्र, पेट्रोल बम, एसिड की बोतलें और पत्थर जमा किये गए. सह-आरोपी दानिश को हिंसा में भाग लेने के लिए विभिन्न स्थानों से लोगों को इकट्ठा करने की जिम्मेदारी दी गई थी. पड़ोस के लोगों के बीच तनाव पैदा करने के लिए महिलाओं और बच्चों को 23 फरवरी को जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर सड़कों को अवरुद्ध करने के लिए लाया गया था.

निलंबित AAP पार्षद ताहिर हुसैन के खिलाफ दिल्ली पुलिस अपराध शाखा द्वारा दायर आरोप पत्र में जांच अधिकारी ने आरोप लगाया है कि दंगों से एक महीने पहले 8 जनवरी को तहत हुसैन उमर खालिद और 'यूनाइटेड अगेंस्ट हेट' के खालिद सैफी के साथ मिले थे.

उत्तर प्रदेश: योगी सरकार ने जारी की SSF के गठन की अधिसूचना, बिना वारंट के घर की तलाशी लेने और गिरफ्तारी का अधिकार

First published: 14 September 2020, 8:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी