Home » इंडिया » Delhi Sealing issue: Arvind Kejriwal step back of hunger strike
 

केजरीवाल का यू टर्न, सीलिंग मुद्दे पर नहीं करेंगे भूख हड़ताल

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 March 2018, 12:17 IST

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 9 मार्च को सीलिंग के मुद्दे पर अमर कॉलोनी व लाजपत नगर में जाकर व्यापारियों के साथ अनशन करने का ऐलान किया था. उन्होंने कहा था कि 31 मार्च तक सीलिंग नहीं रुकी तो वह व्यापारियों से बीच आकर सीलिंग के विरोध में अनशन पर बैठेंगे. लेकिन अब उन्होंने अपनी बात से पलटी मार दी है.

दरअसल, जब केजरीवाल ने भूख हड़ताल की बात कही तो उनके अनशन को लेकर लोगों में उत्सुकता बढ़ी और व्यापारी तथा पत्रकार यह जानने की कोशिश में लग गए कि क्या केजरीवाल सीलिंग के विरोध में अनशन पर बैठेंगे? चारों ओर से आ रहे सवालों पर आम आदमी पार्टी ने शाम को प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अनशन पर नहीं बैठेंगे.

 

आप की दिल्ली इकाई के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने बयान जारी कर कहा कि कई व्यापारी संगठनों और वकीलों ने केजरीवाल से अनशन नहीं करने की अपील की थी क्योंकि इससे न्यायालय नाराज हो सकता है. उन्होंने बयान में कहा कि फिलहाल हालात की मॉनिटरिंग की जाएगी. लिहाजा मुख्यमंत्री ने अपनी अनशन टालने का फैसला किया.

केजरीवाल द्वारा अनशन कैंसिल करने पर कांग्रेस, बीजेपी और आप के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने उन पर हमला किया है. मिश्रा ने तंज करते हुए ट्वीट किया, “केजरीवाल के दफ्तर से पत्रकारों को कॉल – सीलिंग पर भूख हड़ताल कैंसिल CM ने कुछ पत्रकारों से हाथ जोड़कर कहा – “इज्ज़त बचा लो, भूख हड़ताल से बचने का रास्ता बताओं, उस दिन जनता के सवालों से बचने के लिए बोल दिया था”

कांग्रेस नेता अजय माकन ने भी केजरीवाल पर हमला करते हुए कहा कि सीलिंग के मुद्दे पर केजरीवाल का विरोध सिर्फ इवेंट मैनेजमेंट था. माकन ने कहा कि अगर इस मसले पर सीएम ही अनशन पर बैठेंगे तो पीड़ित व्यापारी क्या करेंगे?

First published: 31 March 2018, 12:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी