Home » इंडिया » Delhi Signature bridge case: FIR on Arvind kejriwal and Amanatullah Khan
 

बुरे फंसे केजरीवाल- सिग्नेचर ब्रिज मामले में दर्ज हुई FIR, अमानतुल्लाह पर 6 धाराओं में केस

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 November 2018, 14:39 IST

दिल्ली में सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के मौके पर हुआ बवाल अभी थमने का नाम नहीं ले रहा है. आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान और भाजपा के मनोज तिवारी के बीच हुई धक्का-मुक्की को लेकर अब अमानतुल्लाह खान के खिलाफ दिल्ली पुलिस में एफआईआर दर्ज कराई गई है. इस एफआईआर में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम भी शामिल है.

गौरतलब है कि ब्रिज के उद्घाटन समारोह के मौके पर मनोज तिवारी की AAP कार्यकर्ताओं से झड़प हुई थी. इसी के साथ मनोज तिवारी की दिल्ली पुलिस के अफसरों के साथ भी झड़प हुई थी. इस समारोह के एक वीडियो में आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान मनोज तिवारी को धक्का देते हुई भी दिखाई दिए थे.

इस मामले में अमानतुल्लाह के खिलाफ आईपीसी की 6 धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. सूत्रों की मानें तो अमानतुल्लाह के खिलाफ आईपीसी की धारा 323 (मारपीट करना), 506 (जान से मारने की धमकी देना), 308 (चोट पहुंचाना), 120B (आपराधिक षड़यंत्र रचना), 341 (रास्ता रोकना) और 34 (कामन इंन्टेशन) के तरह मामले दर्ज हुआ है.इस मामले की जांच का जिम्मा दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को सौंपा गया है. मामला दर्ज होने के बाद दिल्ली पुलिस जल्द ही अमानतुल्ला खान से इस संबंध में पूछताछ कर सकती है.

गौरतलब है कि दिल्ली के बहुप्रतीक्षित पुल सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन को लेकर राज्य बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं में झड़प हो गई थी. मनोज तिवारी का कहना था कि उनके संसदीय क्षेत्र में होने के कारण उन्होंने सांसद बनने के बाद पुल का रुका हुआ काम फिर से चालू करवाया लेकिन उद्घाटन के लिए उन्हें नहीं बुलाया गया.

मनोज तिवारी ने कहा कि काफी सालों बाद जब मैंने इस पुल का काम दोबारा चालू करवाया तो केजरीवाल कैसे इस पुल का उद्घाटन कर सकते हैं. मनोज तिवारी ने कहा कि जिस सिग्नेचर ब्रिज को लेकर मैंने दिन-रात संघर्ष किया, खजूरी खास पर अनशन किया उसी समारोह में निमंत्रण न देकर कहीं न कहीं क्षेत्र के सांसद होने के नाते मुख्यमंत्री द्वारा प्रोटोकाल का उल्लंघन किया गया है.

शहरों के नाम बदलने पर भड़के योगी के मंत्री, बोले पहले भाजपा अपने मुस्लिम नेताओं का नाम बदले
वहीं इस मामले में धक्का मुक्की का वीडियो सामने आने पर अमानतुल्लाह ने सफाई देते हुए कहा कि जब मनोज तिवारी स्टेज पर चढ़ने की कोशिश कर रहे थे, तो मैंने उन्हें रोकने की कोशिश की ना कि धक्का दिया. अमानतुल्लाह ने कहा कि तिवारी जिस तरह से वहां पर बर्ताव कर रहे थे, अगर स्टेज पर आते तो मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के साथ बुरा बर्ताव करते. हो सकता है वह मुख्यमंत्री केजरीवाल पर हमला कर देते.

First published: 10 November 2018, 14:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी