Home » इंडिया » Delhi: skeleton found under tulsi tree, uncle killed her sister son and burried in the balcony
 

32 महीनों तक घर में लगी तुलसी की करते रहे पूजा, उसी के नीचे गड़ी थी भांजे की लाश

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 October 2018, 12:13 IST
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

दिल्ली के एक घर से 32 महीने पुरानी लाश बरामद हुई. हैरान करने वाली बात ये है कि घर की बालकनी में ही ये लाश 32 महीनें तक दबी रही और घर के किसी भी व्यक्ति को इसकी भनक तक नहीं लगी. न ही पड़ोसियों को इसके बारे में कोई भनक लगी. ये लाश मिट्टी में दबे-दबे कंकाल बन गई. बालकनी में खिले तुलसी के पौधों को देखकर कभी किसी को कोई इस बात की भनक भी नहीं लगती कि यहां एक कत्ल का राज दफन किए गए हैं. इस घटना के बारे में जानकारी तब हुई जब इस घर में किराए पर रहने के लिए एक लड़की आई.

लड़की ने जब मकान-मालिक से घर की बालकनी में ग्रिल लगवाने के लिए कहा तब जाकर इस घटना का खुलासा हुआ. ग्रिल लगाने के लिए जब बालकनी में मजदूरों ने पड़ी हुई मिटटी को हटाना शुरू किया तो उसके नीचे से एक कंकाल निकल आया.

इस घटना की जानकारी मजदूरों ने तुरंत ठेकेदार को दी जिसके बाद पुलिस ने मौके से नमक की तीन बोरियां और गद्दे के साथ कंबल में लिपटे कंकाल को बरामद किया. जानकारी के अनुसार कत्ल 2016 में हुआ था. इसमें क़त्ल आरोपी मामा विजय कुमार महाराणा है जिसकी उम्र 35 साल है. आंध्र प्रदेश का रहनेवाला ये शख्स गुरुग्राम में किसी कंपनी में काम करता था. 24 साल का भांजा जय प्रकाश उसके साथ रहता था.

त्योहारों में मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, मिलेगा सबसे सस्ता सोना, बचे हैं केवल 5 दिन
हत्या का कारण आज ढाई साल बाद भी पता नहीं चला है. लेकिन अपने ही भांजे को मारने के बाद इस शख्स ने मकान के लॉबी में ही लाश को कुछ ऐसे केमिकल के साथ दफन किया था जिससे लाश की दुर्गन्ध बाहर नहीं आई. उसने पहले बालकनी में करीब डेढ़ फीट तक मिट्टी डाली. उसके ऊपर ईंटे बिछाईं. फिर डेड बॉडी को रखकर उसके ऊपर तुलसी के पौधे लगाए दिए. आरोपी विजय ने यहीं पर भांजे जय प्रकाश का जैकेट भी गाड़ दिया.

जय प्रकाश के घरवालों के मुताबिक 6 फरवरी 2016 को उनकी आखिरी उससे बात हुई थी. 7 फरवरी को आरोपी मामा ने बताया था कि वो अपने दोस्तों के साथ वैष्णो देवी गया है. जयप्रकाश की मां ने अपने कपड़ों के आधार पर अपने बेटे की लाश की पहचान कर ली है.

 

First published: 16 October 2018, 12:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी