Home » इंडिया » dev band: abortion is just like a murder in islam
 

दारुल उलूम देवबंद: इस्लाम में गर्भपात है कत्ल के बराबर गुनाह

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2016, 20:18 IST
(एजेंसी)

देश के प्रमुख इस्लामी शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने एक नया फतवा जारी करके कहा है कि इस्लाम में गर्भपात करना, कत्ल करने जैसा गुनाह है.

दारुल उलूम देवबंद के फतवा विभाग ‘दारुल इफ्ता’ की ओर से जारी फतवे में कहा गया है कि इस्लाम की शुरुआत से पहले लोग अपनी बच्चियों को जिंदा दफन कर दिया करते थे.

कुरान शरीफ में इस तरह की हरकतों की सख्त निन्दा की गयी है. इस्लाम में गर्भपात कराना और करवाना दोनों ही हराम है.

फतवे में कहा गया है कि इस्लाम में बेटियों के साथ अच्छे बर्ताव का हुक्म दिया गया है. इस्लाम में लड़कियों के लिये किसी भी तरह के असम्मान की कोई जगह नहीं है. बेटियां अल्लाह का दिया वरदान हैं और अल्लाह ने सभी को उनकी कद्र करने का हुक्म दिया है.

गौरतलब है कि देश में मुसलमानों में प्रति हजार लड़कों पर लड़कियों का अनुपात साल 2001 की जनगणना में 950 था, जो साल 2011 में घटकर 943 रह गया है.

दारुल उलूम देवबंद के मुहतमिम मौलाना अब्दुल कासिम नोमानी ने कहा कि गर्भपात या भ्रूणहत्या के मसले में इदारे का यह कोई पहला फतवा नहीं है.

इससे पहले इसी मामले में कई फतवे दिये जा चुके हैं. यह फतवा उसी श्रृंखला की हिस्सा है. उन्होंने कहा कि इस्लाम में गर्भपात तो हराम और कत्ल करने के बराबर है ही, मगर गर्भ में बेटी होने का पता लगाकर उसकी हत्या करना उससे भी बड़ा गुनाह है.

First published: 8 June 2016, 20:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी