Home » इंडिया » DG Vanzara's claim, Ishrat Jahan encounter case: Narendra Modi questioned
 

डीजी वंजारा का दावा, इशरत जहां एनकाउंटर मामले में नरेंद्र मोदी से हुई थी पूछताछ

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 March 2018, 12:28 IST

2004 के इशरत जहां एनकाउंटर मामले में प्रमुख अभियुक्त डी जी वंजारा ने सीबीआई की विशेष अदालत के सामने मामले को ख़ारिज करने के लिए एक आवेदन पत्र दाखिल किया है. इस आवेदन पत्र में सीबीआई की चार्जशीट को राजनीतिक रूप से प्रेरित कहा गया है. विशेष अदालत ने सोमवार को सीबीआई को नोटिस जारी कर एजेंसी को 28 मार्च तक जवाब देने का निर्देश दिया है.

अपने आवेदन में वंजारा ने दावा किया है कि सीबीआई का आरोपपत्र राजनीतिक रूप से प्रेरित है. जिसमें कहा कि यह लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई (गुजरात) सरकार को तबाह करने के लिए तत्कालीन केन्द्र सरकार द्वारा रचा गया था. उन्होंने दावा किया है कि तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से कथित फर्जी मुठभेड़ मामले के सिलसिले में पुलिस ने पूछताछ की थी.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार वंजारा के आवेदन में कहा गया है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री और वर्तमान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आईओ (जांच अधिकारी) ने भी बुलाकर पूछताछ की गई थी. हालांकि इस तरह की सामग्री इस मामले के रिकॉर्ड पर नहीं रखी गई.

वंजारा के पत्र में कहा गया है कि जांच दल, जिसमें आईपीएस सतीश वर्मा शामिल था, वह इस मिशन पर थे जिससे इशरत जहां मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री को आरोपी बनाया जा सके. हालांकि एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जो उस जांच का हिस्सा थे, ने वंजारा के दावे से इनकार किया कि तत्कालीन सीएम मोदी से जांच अधिकारी ने पूछताछ की थी.

अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि यह पूरी तरह झूठ है. वंजारा ने अपने आवेदन में दावा किया है कि इस मामले में कोई भी गवाह विश्वसनीय नहीं है. "सीआरपीसी की धारा 164 (5) के तहत दर्ज किए गए गवाहों के बयानों पर शक है.

First published: 13 March 2018, 11:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी