Home » इंडिया » DMK ask for karunanidhi funerel at marina beach high court allowed the burial land
 

हाई कोर्ट ने सुनाया फैसला- मरीना बीच पर किया जाएगा करुणानिधि का अंतिम संस्कार

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 August 2018, 11:23 IST

तमिलनाडु की 61 साल की राजनीति में अपना बोलबाला कायम रखने वाले करुणानिधि का मंगलवार शाम 94 साल की उम्र में निधन हो गया. करुणानिधि के निधन की खबर से पूरे तमिलनाडु के साथ ही देश में शोक की लहर है. करुणानिधि के निधन की पुष्टि कावेरी अस्पताल के बुलेटिन में की गई.

इसके बाद करुणानिधि के समर्थक जो कि लम्बे समय से अस्पताल के बाहर इकट्ठा थे, वो सभी रोते बिलखते नजर आये. ख़बरों के अनुसार करुणानिधि की बीमारी की खबर से ही 20 लोगों की सदमे से मौत हो गई.

करुणानिधि के निधन के बाद उनको दफनाने को लेकर विवाद शुरू हो गया है. करुणानिधि की पार्टी DMK और उनके समर्थकों ने मांग की है कि उन्हें चेन्नई के मशहूर मरीना बीच पर दफनाया जाए और उनका समाधि स्थल भी बने. लेकिन तमिलनाडु सरकार ने ऐसा करने से इनकार किया है. इसी को लेकर आज सुबह मद्रास हाईकोर्ट में सुनवाई हुई.

फिल्मों की स्क्रिप्ट से लेकर तमिलनाडु की 61 साल की राजनीति, ऐसी कहानी जिसमे कभी नहीं हारे करुणानिधि

कोर्ट में तमिलनाडु सरकार ने डीएमके की मांग के खिलाफ एक हलफनामा दिया है. सरकार का कहना है कि सरकार की तरफ से दो एकड़ जमीन और राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करने का वादा किया है.
वहीं एक्टिविस्ट ट्रैफिक रामास्वामी ने कहा है कि अगर करुणानिधि को मरीना बीच पर दफनाया जाता है, तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं है.

हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान तमिलनाडु सरकार ने कहा है कि जब करुणानिधि मुख्यमंत्री थे, तब उन्होंने जानकी रामाचंद्रन को भी मरीना बीच पर जगह नहीं दी थी. कोर्ट ने कहा कि सरकार की ओर से जारी प्रेस रिलीज का विरोध करना सही नहीं है.

पीएम मोदी ने करुणानिधि के निधन पर किए कई ट्वीट, कहा- देश और तमिलनाडु हमेशा याद रखेगा

 

 

इस मामले में कोर्ट की सुनवाई के दौरान डीएमके के वकील पी विल्सन ने दलील दी कि द्रविड आंदोलन के पुरोधा अन्नादुरई करुणानिधि को अपनी जिंदगी और आत्मा कह करते थे. करुणानिधि के पार्थिव शरीर को अन्नादुरई के पास मरीना बीच पर जगह नहीं दी गई तो लोगों की भावनाएं आहत होंगी.

अंत में हाई कोर्ट ने मरीन बीच पर करुणानिधि के अंतिम संस्कार के लिए अनुमति दे दी है. करूणानिधि के परिवार और उनके लाखों समर्थकों की मांग को मानते हुए डीएमके मुखिया करुणानिधि के अंतिम संस्कार के लिए अनुमति दे दी है.  इसी के साथ उच्च न्यायालय ने पिछले साल पीएमके के के. बालू द्वारा दायर याचिकाओं को खारिज कर दिया, जो चेन्नई में मरीना पर स्मारकों के निर्माण को चुनौती दे रहा था.

First published: 8 August 2018, 10:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी