Home » इंडिया » Don't lecture me on nationalism: Sainath
 

पी साईंनाथ: कृपया राष्ट्रवाद की घुट्टी अपने पास रखें

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 March 2016, 9:02 IST

''बेहद दिलचस्प समय आ गया है, पिछले कुछ हफ्तों से तो हम लोगों को नारे लगाने के लिए सजा दे रहे थे, लेकिन बीते हफ्ते में हमने लोगों को नारे नहीं लगाने के लिए सजा दी.''

जाने माने डेवलपमेंट जर्नलिस्ट पी साईंनाथ ने ये बातें दिल्ली में शनिवार को आयोजित एक कार्यक्रम में कहा. उन्होंने दक्षिणपंथी-हिंदुत्ववादी समूहों पर चुटकी लेते हुए कहा, 'मुझे राष्ट्रवाद पर भाषण की जरूरत नहीं है.'

साईंनाथ राजधानी में 'श्रिक्रिंग डेमोक्रेटिक स्पेस एंड नियो-लिबरल फंडामेंटलिज्म' विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्धाटन करने आए थे. उन्हें राजनीतिक टिप्पणियों, धार्मिक एवं बाजारवाद (जिसने तेजी से गरीबों को हाशिए पर ला खड़ा किया है) दोनों तरह के कट्टरवाद पर मुखर होकर हमला करने के लिए जाना जाता है.

उन्होंने कई मुद्दे पर अपने विचार रखे:

सिकुड़ता लोकतंत्र

बेहिसाब असमानता

असहिष्णुता

मीडिया की दोहरी भूमिका

गोवध

ब्रिटिश साम्राज्य के सहयोगी रहे राष्ट्रवादी वीडी सावरकर

साईंनाथ ने महाराष्ट्र विधानसभा में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) विधायक वारिस पठान की घटना का हवाला देते हुए कहा, "क्या मजेदार समय आ गया है कि पिछले कुछ हफ्तों से तो हम लोगों को नारे लगाने के लिए सजा दे रहे थे, लेकिन बीते हफ्तों में हमने ऐसा नहीं करने के लिए लोगों को सजा दी.”

वहां मौजूद दर्शकों से जनता की शक्ति को समझने का आह्ववान करते हुए उन्होंने अमेरिकी हास्य कलाकार जार्ज कार्लिन के एक कथन का हवाला दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि बड़ी तादाद में मौजूद मूर्ख लोगों के समूह की शक्ति को कभी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

साईंनाथ ने कहा, 'आज हम यह देख रहे हैं कि बड़ी तादाद में मूर्ख लोगों का समूह क्या कर सकता है.'

इसके बाद उन्होंने भारत में बढ़ते भेदभाव पर बात की. उन्होंने बताया कि जितना पैसा देश की दो तिहाई जनता के पास है वो भारत के 100 सबसे अमीर लोगों के पास मौजूद धन के बराबर है. वहीं देश की आधी आबादी जितना कमाती है उतना पैसा तो केवल 15 रईसों के पास मौजूद है.

उदाहरण के लिए उन्होंने कारोबारी मुकेश अंबानी का नाम लिया जिनके पास करीब एक लाख करोड़ रुपए की संपत्ति है.

First published: 21 March 2016, 9:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी