Home » इंडिया » Double murder : juvenile can face the charge on new law
 

दिल्ली: हत्या के आरोपी नाबालिग पर नए कानून के तहत होगी सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 February 2016, 15:47 IST

दिल्ली में दोहरे हत्या के आरोपी एक नाबालिग पर दिसंबर, 2015 में संसद द्वारा पारित किए गए नए कानून के तहत एक वयस्क की तरह मुकदमा चलाया जा सकता है.

इस मामले में बताया जा रहा है कि 17 साल का यह किशोर पहले भी एक नाबालिग बच्चे की हत्या का आरोपी है और बीते सोमवार को इस नाबालिग ने फिर दक्षिणी दिल्ली के बीके दत्त कॉलोनी में एक बुजुर्ग महिला मिथिलेश जैन की गला दबाकर हत्या कर दिया. 

मृतक मिथिलेश जैन सेना के इंजिनियरिंग सर्विस से रिटायर्ड अधिकारी थीं. पुलिस ने जब इस मामले में इस किशोर को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पता चला कि इस हत्या से पहले भी वह एक और हत्या कर चुका है.

पुलिस के अनुसार, बीते साल इस किशोर ने अपने साथी के साथ मिलकर 13 साल के स्वपनेश का अपहरण किया और बाद में उसकी हत्या करके लाश को उत्तराखंड के जिम कार्बेट पार्क में फेंक दिया.

हालांकि बाद में पुलिस ने कॉल डीटेल के आधार पर इस नाबालिग को पकड़ लिया और जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने पेश किया. लेकिन नाबालिग होने की वजह से यह किशोर जल्द ही छूट गया. रिहा होने के बाद इसने एक बार फिर से लूट की वारदात को अंजाम देने के लिए मिथिलेश जैन का कत्ल कर दिया.

छह महीने के भीतर लगातार दो हत्या कर चुके इस किशोर के मामले में यदि जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड इस बात को मान लेता है कि इसकी प्रवृति आपराधिक है और इसमें सुधार की गुंजाईश नहीं है तो यह किशोर ऐसा पहला नाबालिग होगा, जिस पर जुवेनाइल जस्टिस (केयर एंड प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन) एक्ट, 2015 के तहत वयस्क की तरह मुकदमा चलेगा.

16 दिसंबर के निर्भया कांड के बाद जस्टिस जेएस वर्मा कमेटी की सिफारिश के आधार पर बने इस नये कानून के तहत 16 से 18 वर्ष की आयु के बीच के किशोरों पर हत्या जैसे खतरनाक अपराधों के लिए वयस्क की तरह मुकदमा चलाया जा सकता है.

First published: 5 February 2016, 15:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी