Home » इंडिया » DRDO and India Air Force to test air launched version of Brahmos missile from Sukhoi aircraft
 

नई तकनीक से अगले सप्ताह ब्रह्मोस मिसाइल का परीक्षण, दुश्मन को देगी मुंहतोड़ जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2019, 8:12 IST

भारत एक बार फिर से अपनी ताकत बढ़ाने और दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए एक अहम कदम बढ़ाने जा रहा है. दरअसल, इंडियन एयरफोर्स और डीआरडीओ ब्रह्मोस मिसाइल के हवा से छोड़े जाने वाले संस्करण का परीक्षण करने जा रहा है. ये परीक्षण अगले सप्ताह हो सकता है. परीक्षण में सफलता मिलने के बाद ही भारतीय वायुसेना की क्षमता में पहले से अधिक इजाफा हो जाएगा और भारत एक बार फिर से बालाकोट जैसे हमले को अंजाम देकर दुश्मन का मात दे सकेगा.

अगले सप्ताह होने वाले इस परीक्षण के लिए भारतीय वायुसेना और डीआरडीओ ने तैयारियां पूरी कर ली हैं. परीक्षण के दौरान इस मिसाइल को रूस निर्मित सुखोई एसयू-30एमकेआई लड़ाकू विमान से छोड़ा जाएगा. बता दें कि डीआरडीओ ने ब्रह्मोस के इस संस्करण को पूरी तरह स्वदेशी तरीके से विकसित किया है.

 

वायुसेना के सूत्रों के मुताबिक, ये मिसाइल 290 किलोमीटर तक दुश्मन के ठिकानों को नेस्तनाबूत कर देगी. जो आसमान से जमीन पर लक्ष्य भेदने के लिए बनाई गई है. सूत्रों ने बताया कि, इस मिसाइल का इस्तेमाल बालाकोट जैसी एयर स्ट्राइक करने के लिए किया जा सकता है, जिसमें इस बार भारतीय विमानों को लक्ष्य भेदने के लिए दुश्मन की सीमा में घुसने की भी जरूरत नहीं पड़ेगीजानकारी के मुताबिक इस मिसाइल के हवा से छोड़े जाने वाले संस्करण का अगले सप्ताह देश के दक्षिण भाग में परीक्षण किया जाएगा. जिससे एसयू-30 लड़ाकू विमान के साथ इस मिसाइल का समन्वय भी साबित हो जाएगा.

चौथे चरण के लिए थमा चुनाव प्रचार, 9 राज्यों की 71 सीटों पर कल होगा मतदान

First published: 28 April 2019, 8:19 IST
 
अगली कहानी