Home » इंडिया » DRDO-developed anti-drone system deployed near Red Fort on Independence Day 2020
 

PM मोदी की सुरक्षा में लालकिले पर तैनात था भारत में निर्मित ये स्पेशल चीज, खासियत जानकर करेंगे सैल्यूट

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 August 2020, 15:59 IST
drone

Independence Day 2020: देश के 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से देशवासियों को संबोधित किया. इस दौरान उनकी सुरक्षा के लिए एक खास चीज लाल किले पर मौजूद थी. बार-बार कैमरा इस ओर जा रहा था. जिससे इसके बारे में जानने की कौतूहल मची थी.

दरअसल, लालकिला पर प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा में एक खास एंटी ड्रोन सिस्टम तैनात किया गया था. इसकी सबसे खास बात यह है कि यह भारत में ही निर्मित है. यह ड्रोन ढाई किलोमीटर तक निशाने को साधने में सक्षम है. इस बेहद खास ड्रोन को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने विकसित किया है.

ये है खासियत

यह एंटी ड्रोन सिस्टम छोटे से छोटे ड्रोन को तीन किलोमीटर के दायरे में आने से रोकता है. यह जैमिंग के माध्यम से अथवा लेजर आधारित डायरेक्टेड एनर्जी वेपन के जरिए ड्रोन के इलेक्ट्रॉनिक्स को उस क्षेत्र में आने से रोकता है. ये एंटी ड्रोन लेजर की मदद से एक से ढाई किलोमीटर के दायरे में मार गिराने की क्षमता रखता है.

इस एंटी ड्रोन सिस्टम के जरिए लेजर हथियारों के वाट क्षमता के आधार पर 3 किमी के माइक्रो ड्रोन का पता लग जाता है. बता दें कि पीएम ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पूरे देश में नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन लाने का ऐलान किया. इस दौरान पीएम मोदी ने जानकारी दी कि योजना के तहत हर देशवासी को हेल्थ आईडी दी जाएगी.

पीएम मोदी ने ऐलान किया कि योजना के तहत दी जाने वाली हेल्थ आईडी में हर नागरिक के स्वास्थ्य का संपूर्ण लेखा-जोखा होगा. लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने अपने सातवें स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में कहा कि भारत की संप्रभुता का सम्मान सर्वोपरि है. उन्होंने कहा कि जिसने भी इस पर आंख उठाई, देश की सेना ने उसे उसकी ही भाषा में जवाब दिया.

Independence Day 2020: लाल किले की प्राचीर देश के नाम PM मोदी के संबोधन की बड़ी बातें यहां पढ़िए

लाल किले की प्राचीर से बोले पीएम मोदी, आज का दिन स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को याद करने का दिन

First published: 15 August 2020, 16:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी