Home » इंडिया » DRDO Successfully Flight-Tested Guided Bomb is more powerfull than Spice 2000 of Balakot
 

भारत ने किया स्मार्ट गाइडेड बम का सफल परीक्षण, बालाकोट में तबाही मचाने वाले बम से ज्यादा शक्तिशाली

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2019, 14:10 IST

भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने राजस्थान के पोखरण में सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से 500 किलोग्राम श्रेणी के गाइडेड बम सफल परीक्षण किया. खास बात यह है कि यह बम पाकिस्तान के बालाकोट एयरस्ट्राइक में इस्तेमाल किए स्पाइस 2000 बम से ज्यादा खतरनाक है.

पूर्ण रूप से भारत में ही विकसित इस बम ने रक्षा मंत्रालय के मुुताबिक, सफलतापूर्वक रेंज हासिल करते हुए लक्ष्‍य पर सटीक निशाना लगाया. गाइडेड बम छोड़े जाने के परीक्षण के दौरान मिशन के सभी उद्देश्‍य पूरे हो गए. रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, यह प्रणाली विभिन्‍न युद्धक हथियारों को ले जाने में सक्षम है.

500 किलो वजन वाले इस देसी गाइडेड बम को जोधपुर से उड़े सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से 30 किमी पहले दागा गया. इसके बाद अपने पूर्व निर्धारित लक्ष्य पर इसने सटीक निशाना लगाया. बम की खास बात यह है कि इससे दुश्मन के इलाके के एयर फील्ड को तबाह करने में तो मदद मिलेगी ही साथ ही दुश्मन के ठिकानों को यह नजदीक से नष्ट कर सकता है.

इस गाइडेड बम को डीआरडीओ की हैदराबाद स्थित लैब ने बनाया है. इस बम के मिलने से एयर फोर्स की मारक क्षमता में काफी बढ़ोत्तरी होगी, जिससे एयर स्ट्राइक में मजबूती मिलेगी. डीआरडीओ के अनुसार, आने वाले समय में इससे दोगुने वजन का बम विकसित कर उसके परीक्षण की तैयारी की जा रही है.

बता दें कि दो दिन पहले ही भारतीय वायुसेना ने अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में एक सुखोई विमान से सुपरसोनिक ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल के हवाई संस्करण का सफल परीक्षण किया था. वहीं भारतीय वायुसेना अपने हथियारों को ज्यादा एडवांस बनाने के लिए इजराइल से स्पाइस-2000 बम का एडवांस वर्जन खरीद रही है.

सूरत अग्निकांड: अपनी जिंदगी की परवाह किए बिना केतन ने बचाई 12 लोगों की जान, वीडियो देख दहल जाएंगे

First published: 25 May 2019, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी