Home » इंडिया » DUSU Election: ABVP wins the three positions, NSUI only one
 

डूसू में लगातार तीसरी बार एबीवीपी का डंका, अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सचिव पद पर जीत

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 September 2016, 11:51 IST
(ट्विटर)

दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ (डूसू) चुनाव में भाजपा समर्थित छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का लगातार तीसरी बार जलवा देखने को मिला है. डूसू में एबीवीपी ने अपना पैनल बनाने में कामयाबी हासिल की है.

अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सचिव पद पर एबीवीपी के उम्मीदवारों को जीत हासिल हुई है. वहीं एनएसयूआई को महज एक सीट पर जीत मिली. कांग्रेस समर्थित एनएसयूआई के उम्मीदवार को संयुक्त सचिव के चुनाव में जीत हासिल हुई है.

दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ पैनल

अमित तंवर- अध्यक्ष (एबीवीपी)

प्रियंका- उपाध्यक्ष (एबीवीपी)

अंकित सिंह सांगवान-  सचिव (एबीवीपी)

मोहित सांगवान- संयुक्त सचिव(एनएसयूआई)

फेसबुक

4290 वोटों से जीते अमित तंवर

अध्यक्ष पद पर एबीवीपी के अमित तंवर को बंपर जीत हासिल हुई है. उन्होंने 4290 वोटों के बंपर अंतर से एनएसयूआई के उम्मीदवार निखिल यादव को मात दी. वहीं उपाध्यक्ष पद पर एबीवीपी की प्रियंका और सचिव के लिए एबीवीपी के ही अंकित सिंह सांगवान चुने गए हैं.  

पढ़ें: डीयू में छात्रसंघ चुनाव की वोटिंग जारी, 17 उम्मीदवार, 117 बूथ और 1.23 लाख मतदाता

हालांकि एबीवीपी को संयुक्त सचिव सीट पर मुंह की खानी पड़ी है. एनएसयूआई के मोहित सांगवान ने एबीवीपी के विशाल यादव को इस पद के लिए हुए चुनाव में शिकस्त दी है. पिछली बार के चुनाव में एबीवीपी को चारों सीटों पर जीत हासिल हुई थी.

किसको कितने वोट?

अध्यक्ष

अमित तंवर (एबीवीपी)- 16127 वोट 

निखिल यादव (एनएसयूआई)- 11837 वोट

उपाध्यक्ष

प्रियंका (एबीवीपी)- 15592 वोट

अर्जुन चपराना (एनएसयूआई)- 13137 वोट

सचिव

अंकित सिंह सांगवान (एबीवीपी)- 15516 वोट

विनीता ढाका (एनएसयूआई)- 13833 वोट

संयुक्त सचिव

मोहित (एनएसयूआई)- 16526 वोट

विशाल यादव (एबीवीपी)- 14060 वोट

इस बार डूसू में कम मतदान

इस बार डूसू चुुनाव में पिछले साल के मुकाबले कम मतदान हुआ. शुक्रवार को 36.9 फीसदी छात्र-छात्राओं ने मतदान किया. जबकि पिछली बार यह आंकड़ा 43 फीसदी से ज्यादा था. 51 कॉलेजों के 117 बूथों पर कुल मतदाताओं की संख्या 1,23,246 थी.

पढ़ें: जेएनयू छात्रसंघ चुनाव: जानिए अध्यक्ष पद के लिए किसके बीच है टक्कर?

इस बार अध्यक्ष पद के लिए सात उम्मीदवार मैदान में थे. जबकि उपाध्यक्ष पद के लिए चार उम्मीदवारों ने ताल ठोकी. इसके अलावा सचिव और संयुक्त सचिव पद के लिए तीन-तीन उम्मीदवार मैदान में थे. मतदान में 300 ईवीएम का इस्तेमाल किया गया.

First published: 10 September 2016, 11:51 IST
 
अगली कहानी