Home » इंडिया » Earthquak in delhi, reports says risk of earthquake increased in Delhi-NCR
 

दिल्ली पर मंडरा रहा है भूकंप का खतरा, बड़ी-बड़ी इमारतें हो सकती हैं ध्वस्त !

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 December 2018, 8:55 IST
(File Photo)

देश की राजधानी दिल्ली पर खतरनाक भूकंप का ख़तरा आ गया है. एक रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है कि दिल्ली इस समय सर्वाधिक संवेदनशील जोन में आ गया है. बेंगलुरु के जवाहर लाल नेहरू सेंटर फॉर ऐडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च के सिस्मोलॉजिस्ट की एक स्टडी में जारी हुई रिपोर्ट में ये दवा किया गया है कि देश की राजधानी दिल्ली में काफी तीव्रता के भूकंप के झटके आ सकते हैं. सीपी राजेंद्रन की अध्यक्षता में हुई इस स्टडी ये खुलासा हुआ है. राजेंद्रन का कहना है, ''भूगर्भिक क्षेत्र में काफी खिंचाव/तनाव की स्थिति पैदा हो गई है.''

वहीं इस स्टडी के अन्य बिंदुओं के बारे में बताते हुए राजेंद्रन ने कहा है कि अध्ययन में ये देखा गया है कि 1315 और 1440 के बीच आए भूकंप के बाद से मध्य हिमालय का एरिया अभी तक काफी शांत रहा है लेकिन अब हालात बदलते नजर आ रहे हैं. इस अध्ययन के आधार पर चेतावनी देते हुए उन्होंने बताया कि इसका असर दिल्ली पर पड़ने की आशंका है. इसके चलते दिल्ली और आसपास के इलाके भूकंप के खतरे के भीतर आ गए हैं. दिल्ली और आस पास के कई इलाके काफी संवेदनशील हैं. एक्सपर्ट्स के अनुसार अगर ऐसा कोई बड़ा भूकंप आया तो दिल्ली की इमारतों में से केवल 20 प्रतिशत ही ऐसी हैं जो कि सुरक्षित बच पाएंगी.

दिल्ली और आसपास का इलाका इसलिए भी ज्यादा संवेदनशील है क्योंकि यह एरिया तीन फॉल्ट लाइनों पर बसा हुआ है. ये मथुरा, सोहना और दिल्ली-मुरादाबाद हैं. वहीं गुड़गांव के आसपास सबसे ज्यादा, 7 फॉल्ट-लाइन हैं. इसलिए इस इलाके में ख़तरा और भी ज्यादा है.

ये भी पढ़ें- सत्ता संभालते ही चुनावी वादों को पूरा करने में जुटी कांग्रेस, राजस्थान में भी किसानों का कर्ज हुआ माफ़

वहीं अगर जीआरआईएचएच काउंसिल के संस्थापक मानित रस्तोगी की मानें तो उनके मुताबिक गुजरात में 2001 में आए भूकंप के बाद से दिल्ली को जोन—3 से शिफ्ट करके जोन-4 में लाया गया है. वहीं स्टडी में ये भी खुलासा हुआ है कि दिल्ली की अधिकांश इमारतें भूकम्परोधी नहीं है. हालांकि 2008 में दिल्ली की कुछ पुरानी इमारतों को भूकंप के खतरे के लिहाज से ही मरम्मत और दुरुस्त करने के लिए प्रस्तावित किया गया था.

First published: 20 December 2018, 8:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी