Home » इंडिया » Eclipse: Solar and Lunar eclipse 2020 date know the effect of this on earth
 

Eclipse 2020: एक महीने में पड़ेगा दो-दो ग्रहण, दुनियाभर में प्राकृतिक आपदा से मच सकती है तबाही

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 April 2020, 14:10 IST

Eclipse 2020: दुनिया में कोरोना संकट के बीच जून का माह ग्रहण के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण होने वाला है. खगोलीय घटनाओं के लिए यह महीना बहुत ही महत्वपूर्ण है. इस महीने दो-दो ग्रहण पड़ने वाले है. एक सूर्य ग्रहण दूसरा चंद्रग्रहण. इन दोनों खगोलीय घटनाओं पर दुनिया भर के वैज्ञानिकों और ज्योतिष शास्त्रों की नजरें टिकी हुई हैं.

इन ग्रहणों का असर पूरी दुनियाभर में देखा जाएगा. ज्योतिष शास्त्रों और वैज्ञानिकों की मानें तो  5 जून को चंद्र ग्रहण और 21 जून को सूर्य ग्रहण की स्थिति बन रही है. इसमें जो सबसे खास बात है वह यह है कि इन दोनों ही ग्रहणों को भारत में देखा जा सकेगा. इसलिए भारत के लिहाज से ये ग्रहण काफी महत्वपूर्ण हैं.

क्या होता है सूर्य और चंद्र ग्रहण

सूर्य ग्रहण- जब चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य के बीच में से गुजरता है, तब सूर्य ग्रहण होता है.
चंद्र ग्रहण: यह ग्रहण तब होता है जब पृथ्वी चंद्रमा के ठीक पीछे उसकी छाया में आ जाती है.

इस साल पड़ेंगे 6 ग्रहण

ज्योतिष शास्त्रों और वैज्ञानिकों की मानें तो इस साल 6 ग्रहण लगेंगे. इसमें से एक ग्रहण लग चुका है. यह चंद्रग्रहण था. वहीं अब 6 जून से 5 जुलाई के बीच तीन ग्रहण लगने जा रहे हैं. ज्योतिष की दृष्टि से 21 जून 2020 को पड़ने जा रहा सूर्यग्रहण काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. यह ग्रहण मिथुन राशि में लगेगा.

वहीं दूसरी तरफ 5 जून 2020 को रात्रि 11 बजकर 15 मिनट पर लगने जा रहा चंद्र ग्रहण 6 जून को 2 बजकर 24 मिनट पर समाप्त होगा. इसमें सूतक काल मान्य नहीं होगा. जबकि 21 जून को लगने जा रहा सूर्यग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर लगकर दोपहर 3 बजकर 3 मिनट तक चलेगा. इसमें सूतक काल 12 घंटे पूर्व से शुरू होगा जो ग्रहण समाप्त होने तक रहेगा.

ग्रहण का फल

ज्योतिष के मुताबिक, सूर्य ग्रहण के समय मंगल ग्रह मीन में गोचर होकर सूर्य, बुध, चंद्रमा और राहु को देखेंगे. यह शुभ नहीं माना जा रहा है. पहले ही एक तरफ पूरी दुनिया कोरोना संकट से जूझ रही है. वहीं ग्रहण के समय शनि, गुरु, शुक्र और बुध वक्र की स्थिति में होंगे. जबकि राहु और केतु उल्टी चाल में ही रहते हैं. ऐसे में दुनिया भर में हलचल की स्थिति बनने वाली है. दुनिया के कई देशों में सीमा विवाद और आपसी तनाव की स्थिति बन सकती है. इसके अलावा प्राकृतिक आपदाओं के लिए भी यह स्थिति शुभ नहीं है.

कोरोना संकट: किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी, BJP सरकार ने रिजर्व किए 22 हजार करोड़ रुपये

Coronavirus: सरपंचों से पीएम मोदी बोले- महामारी ने मुसीबत खड़ी की लेकिन शिक्षा भी दी

First published: 24 April 2020, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी