Home » इंडिया » Economic Survey’s education alert: Population of kids falling, merge schools
 

खुलासा : अगले 20 साल में स्कूल जाने वाले बच्चों की संख्या में आएगी इतनी बड़ी गिरावट

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 July 2019, 8:26 IST

 

प्राथमिक विद्यालय जाने वाले बच्चों की आबादी में अनुमानित गिरावट को देखते हुए आर्थिक सर्वेक्षण ने कहा कि इसके बहुत महत्वपूर्ण सामाजिक और आर्थिक परिणाम होंगे. प्राथमिक स्कूलों को व्यवहार्य बनाने के लिए समेकित या विलय करने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया है. सर्वेक्षण में कहा गया है कि देश के प्राथमिक विद्यालयों का समेकन प्रारंभिक शिक्षा में निवेश को कम करने के बारे में नहीं है, बल्कि शिक्षा की गुणवत्ता और दक्षता के लिए मात्रा से नीतिगत जोर को स्थानांतरित करने के लिए है.

सर्वेक्षण के अनुसार प्राथमिक विद्यालय जाने वाले 5-14 आयु वर्ग की आबादी 2021 और 2041 के बीच 18.4 प्रतिशत कम होगी. यह बताता है कि यह आयु वर्ग 2041 तक हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, तमिल में तेजी से गिर जाएगा. इसमें तमिलनाडु, महाराष्ट्र, पंजाब, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक, बिहार, उत्तर प्रदेश, राजस्थान जैसे परदेश शामिल हैं.

सर्वेक्षण के अनुसार प्रति व्यक्ति स्कूलों की संख्या भारत में सभी प्रमुख राज्यों में काफी बढ़ जाएगी और 50 से कम छात्रों वाले प्राथमिक स्कूलों की संख्या दिल्ली को छोड़कर सभी प्रमुख राज्यों में पिछले एक दशक में बढ़ी है. हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में 40 फीसदी से अधिक प्राथमिक स्कूल हैं, जिनमें 50 से कम छात्र नामांकित हैं. दो कारकों को रेखांकित करते हुए - 5-14 आयु-वर्ग में गिरावट और 50 से कम छात्रों वाले प्राथमिक विद्यालयों की संख्या में वृद्धि हुई है.

Union Budget 2019: चीन और पाकिस्तान से मुकाबले के लिए बजट पर है सेना की नजर

First published: 5 July 2019, 8:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी