Home » इंडिया » Economics Nobel Prize winner Abhijit Banerjee went jail during education in JNU
 

अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल, कन्हैया प्रकरण मामले में की थी मोदी सरकार की आलोचना

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 October 2019, 13:23 IST

भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी को इस साल के अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है. अभिजीत भले ही आज भारतीय नागरिक नहीं हों लेकिन आज भी उनकी पर्सनालिटी अखिल भारतीय ही रही है. अभिजीत बनर्जी का जन्म मुंबई में हुआ, उनकी पढ़ाई पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में हुई. उच्च शिक्षा के लिए वे नई दिल्ली में रहे. 

अभिजीत ने अपनी पढ़ाई देश के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय जेएनयू से पूरी की है. आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि इस दौरान उन्हें जेल भी जाना पड़ा है. अभिजीत ने जेएनयू से साल 1983 में अर्थशास्‍त्र में एमए की डिग्री हासिल की थी. इस दौरान वह 10 दिन के लिए तिहाड़ जेल भी गए थे.

बता दें कि जेएनयू के कन्हैया प्रकरण के बाद उन्होंने मोदी सरकार की आलोचना की थी. एक अखबार में अभिजीत बनर्जी ने आर्टिकल लिखकर कहा था कि हम लोगों को जेएनयू जैसे सोचने-विचारने वाले संस्‍थानों की जरूरत है. सरकार को इन सब चीजों से दूर रहना चाहिए.

बनर्जी ने अपने लेख में पढ़ाई के दौरान खुद के 10 दिन तिहाड़ जेल में रहने की बात लिखी थी. उन्‍होंने बताया था कि उनके साथ अन्‍य छात्रों ने वाइस चांसलर का घेराव किया था. वीसी ने उस वक्त उनके स्टूडेंट यूनियन के प्रेसिडेंट को कैंपस से निष्कासित कर दिया था. तब पुलिस ने आकर सैकड़ों छात्रों को उठा लिया था और उन सबकी पिटाई भी की थी.

बता दें कि अर्थशास्‍त्र के क्षेत्र में इस साल का नोबेल पुरस्कार अभिजीत बनर्जी के अलावा उनकी पत्‍नी एस्‍थर डुफ्लो और हार्वर्ड के प्रोफेसर माइकल क्रेमर को संयुक्‍त रूप से दिया गया है. 

जब तिहाड़ जेल में दस दिन बंद रहे थे नोबल विजेता अभिजीत बनर्जी, जानिए क्या था पूरा मामला

नोबेल मिलने से पहले अभिजीत बनर्जी ने मोदी सरकार को दी थी ये सलाह

First published: 15 October 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी