Home » इंडिया » ed team raid at nirav modi showroom office in mumbai surat, 11400 crore scam accounts of nirav modi and mehul
 

PNB घोटाला: नीरव मोदी के ठिकानों पर ED की छापेमारी, मोदी ने मांगा 6 महीने का टाइम

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2018, 14:54 IST

पंजाब नेशनल बैंक से 280 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार सुबह डायमंड कारोबारी नीरव मोदी के ऑफिस और शोरूम पर छापेमारी की. ईडी की तरफ से यह छापेमारी मोदी के मुंबई के काला घोडा इलाके में स्थित शोरूम पर की गई. ईडी ने सूरत में तीन, मुंबई में 4 और दिल्ली में दो ठिकानों पर छापा मारा है.

इस बीच खबर है कि नीरव मोदी ने पीएनबी को खत लिखकर पैसा चुकाने के लिए 6 महीने का वक्त मांगा है. वहीं दूसरी तरफ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि घोटाले में बैंक के पूर्व जनरल मैनेजर का नाम आ रहा है.

 

छापेमारी के दौरान ईडी को क्या कोई पुख्ता सबूत मिले हैं. इसे बारे में अभी जानकारी नहीं मिल पाई है. शुरुआती खबरों में बताया जा रही है कि ईडी ने गुरुवार को नीरव मोदी के मुंबई में स्थित कुल 12 ठिकानों पर छापेमारी की है. इससे पहले ईडी ने मोदी और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है.

इससे पहले खबर आई थी कि घोटाले का मुख्य आरोपी नीरव मोदी देश छोड़कर भाग गया है. खबर थी कि वह एफआईआर होने से पहले ही देश छोड़कर भाग गया है. खबर है कि वह स्विट्जरलैंड के दावोस में है.

बता दें कि घोटाला सामने आने के बाद पीएनबी ने अपने 10 अधिकारियों को निलंबित कर दिया था. पीएनबी ने बताया था कि कुछ खाताधारकों को लाभ पहुंचाने के लिए लेन-देन की गई. इन लेन-देन के आधार पर ग्राहकों को दूसरे बैंकों ने विदेशों में क़र्ज़ दिए हैं. इस ख़बर के बाद पंजाब नेशनल बैंक के शेयर 10 फीसदी तक टूटे.

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी ने जो पैसे पीएनबी की गारंटी पर उठाए उसे लौटाया नहीं है. खुलासा हुआ है कि पीएनबी से नीरव मोदी ने 2000 करोड़ और मेहुल चौकसी ने 9000 करोड़ रूपये लिए थे. ये दोनों विदेशों से कच्चा हीरा आयात करते थे. सीबीआई ने दोनों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. बैंक ने दोनों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी करने की मांग की है.

ऐसे हुआ घोटाला
पंजाब नेशनल बैकं के दो अधिकारियों की मिलीभगत से नीरव मोदी और उनके सहयोगियो ने साल 2017 में विदेश से सामान मंगाने के नाम पर बैंकिंग सिस्टम में जानकारी डाले बिना ही आठ एलओयू जारी करवा दिए, जिससे बैंक को 280 करोड रुपये से ज्यादा का नुकसान हुआ. हालांकि ये पूरा घोटाला 11 हजार 500 करोड़ का है.

 

ये हैं नीरव मोदी
48 साल के नीरव मोदी डायमंंड की दुनिया का बड़ा ब्रांड हैं. ग्लैमर की दुनिया में भी नीरव मोदी बड़ा नाम हैं. नीरव मोदी दुनिया की डायमंड कैपिटल कहे जाने बेल्जियम के एंटवर्प शहर के मशहूर डायमंड ब्रोकर परिवार से ताल्लुक रखते हैं. एक वक्त ऐसा था कि वो खुद ज्वैलरी डिजाइन नहीं करना चाहते थे, लेकिन पहली ज्वैलरी डिजाइन करने के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा.

उनकी डिजाइन की हुई ज्वैलरी की कीमत करोड़ों में होती है. नीरव मोदी भारत के एकमात्र भारतीय ज्वैलरी ब्रांड के मालिक हैं जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चित हैं. उनके डिजाइन किए गए गहने हॉलीवुड की हस्तियों से लेकर देशी धनकुबेरों की पत्नियों के शरीर की शोभा बढ़ाते हैं. नीरव मोदी फोर्ब्स की भारतीय अमीरों की सूची में भी शामिल रहे हैं.

First published: 15 February 2018, 14:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी