Home » इंडिया » Effective and time-bound implementation of â€~Agenda of Alliance†key to govt formation: PDP
 

गठबंधन की समीक्षा का पैंतरा और महबूबा की मंशा

रियाज-उर-रहमान | Updated on: 2 February 2016, 12:30 IST
QUICK PILL
  • पीडीपी प्रेसिडेंट महबूबा मुफ्ती ने कहा, \'मुफ्ती मोहम्मद सईद ने बीजेपी के साथ गठबंधन करने का अलोकप्रिय लेकिन साहसिक फैसला लिया था क्योंकि उन्हें उम्मीद थी कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनी केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर और उसके लोगों से जुड़े राजनीति और आर्थिक मुद्दों पर निर्णायक फैसले लेगी.
  • मुफ्ती मोहम्मद सईद के राज्य में शांति, स्थिरता और समृद्धि लाने के विजन को लागू करने में सहयोग देने के बदले जम्मू-कश्मीर और नई दिल्ली में बैठे कुछ लोगों ने विवादों को जन्म देना शुरू कर दिया.

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने सोमवार को साफ कर दिया है कि वह जम्मू-कश्मीर में अगली सरकार के गठन के बारे में तभी फैसला लेगी जब उसे इस बात का भरोसा मिल जाए कि मुफ्ती मोहम्मद सईद के विजन और मिशन को उसी भाव में लागू किया जाएगा जैसा उन्होंने कहा था.

पार्टी नेताओं और विधायकों की बैठक को संबोधित करते हुए पीडीपी प्रेसिडेंट महबूबा मुफ्ती ने कहा, 'मुफ्ती मोहम्मद सईद ने बीजेपी के साथ गठबंधन करने का अलोकप्रिय लेकिन साहसिक फैसला लिया था क्योंकि उन्हें उम्मीद थी कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनी केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर और उसके लोगों से जुड़े राजनीति और आर्थिक मुद्दों पर निर्णायक फैसले लेगी.'

उन्होंने कहा कि मुफ्ती मोहम्मद सईद के राज्य में शांति, स्थिरता और समृद्धि लाने के विजन को लागू करने में सहयोग देने के बदले जम्मू-कश्मीर और नई दिल्ली में बैठे कुछ लोगों ने विवादों को जन्म देना शुरू किया  और इससे राज्य सरकार की ऊर्जा बेकार में बर्बाद हुई.

महबूबा ने कहा कि महज सत्ता के लिए पीडीपी को सरकार बनाने में किसी तरह की दिलचस्पी नहीं है

महबूबा ने कहा कि पीडीपी महज सत्ता के लिए सरकार नहीं बना सकती. अगर वह ऐसा करती है तो वह सिर्फ मुफ्ती साहब के सपने और आदर्शों के आधार पर होगा ताकि जम्मू-कश्मीर के लोगों की राजनीतिक और आर्थिक मसलों का समाधान किया जा सके.

उन्होंने कहा, 'ऐसे माहौल में हमें अपनी स्थिति का फिर से मूल्यांकन करना होगा ताकि हम यह देख सकें कि हम कश्मीर की जनता के साथ सामंजस्य बिठा पाते हैं या नहीं.' उन्होंने कहा कि भारत सरकार को पीडीपी-बीजेपी के गठबंधन एजेंडे को लागू करने के लिए ठोस वायदा करना होगा, ताकि राज्य में शांति और स्थायित्व का माहौल तैयार किया जा सके और इसके लिए पीडीपी को एक निश्चित समय की जरूरत होगी.

और पढ़ें:जम्मू-कश्मीर में सरकार के गठन पर महबूबा ले सकती हैं अंतिम फैसला

पीडीपी प्रेसिडेंट ने कहा, 'पीडीपी को यह देखना होगा कि क्या केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर के लोगों पर भरोसा करने को तैयार है ताकि गठबंधन के एजेंडे को लागू किया जा सके.' 

उन्होंने कहा कि गठबंधन के एजेंडे में यह साफ कर दिया गया है कि इसकी मदद से राजनीतिक प्रक्रिया और आर्थिक विकास को आगे बढ़ाया जाएगा और इस दौरान दोनों पक्षों में संतुलन बनाते हुए शांति और समृद्धि को हासिल करने की कोशिश की जाएगी ताकि आने वाली पीढ़ी को एक सामान्य जिंदगी मुहैया कराई जा सके खासकर उन क्षेत्रों 'में जहां लोगों को लगातार संघर्ष के साए में रहना पड़ता है.'

पीडीपी विधायकों और पार्टी के अन्य नेताओं की बैठक में महबूबा मुफ्ती ने पार्टी की प्राथमिकताओं को साफ किया

महबूबा ने कहा, 'गठबंधन के एजेंडे में यह साफ कर दिया गया था कि मौजूदा स्थिति जम्मू-कश्मीर की संवैधानिक स्थिति के मुताबिक होगी जिसमें राज्य को दिया गया विशेष दर्जा भी शामिल है.' उन्होंने कहा कि राज्य की गठबंधन सरकार सरकार के लिए गए फैसलों को लागू करेगी ताकि शांतिपूर्ण माहौल बनाया जा सके और पूरे उपमहाद्वीप में सामान्य स्थिति तैयार की जा सके जिसमें पाकिस्तान के साथ रिश्तों को सामान्य किया जाना भी शामिल है.

और पढ़ें:बीजेपी को ठेंगा दिखा सकती हैं महबूबा मुफ्ती

महबूबा ने कहा कि पिछले 10 महीनों के दौरान गठबंधन के एजेंडे के मुताबिक काम किया गया लेकिन राजनीतिक और आर्थिक दिशा में उम्मीद के मुताबिक तरक्की नहीं हुई. उन्होंने कहा कि विवादों और गतिरोध के बीच मुफ्ती साहब ने लगातार काम किया ताकि लोगों की मदद की जा सके. 

महबूबा ने कहा, 'उन्होंने अपनी तरफ से लोगों के लिए असाधारण तौर पर काम किया और अब यह देखना चाहते हैं कि क्या हम उनके मिशन को आगे बढ़ाते हुए जमीन पर बड़ा बदलाव ला सकते हैं या नहीं. इसके लिए हमें एक बेहतर राजनीतिक माहौल की जरूरत होगी.'

महबूबा ने कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि भारत सरकार राज्य में शांति और स्थिरता की खातिर गठबंधन के एजेंडे को लागू करने के लिए ठोस कदम उठाए.' पीडीपी के वरिष्ठ नेता और सांसद मुजफ्फर हुसैन बेग ने भी पीडीपी विधायकों और नेताओं की बैठक को संबोधित किया और उन्होंने जम्मू-कश्मीर से जुड़े विवादित मुद्दों को सुलझाने की दिशा में मुफ्ती मोहम्मद सईद के विजन के बारे में बताया.

First published: 2 February 2016, 12:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी