Home » इंडिया » Eid-Al-Adha: Gujarat High Court order - ban on animal slaughter in public
 

Eid-Al-Adha: गुजरात हाईकोर्ट का आदेश- सार्वजनिक रूप से पशु वध पर लगे प्रतिबंध

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2020, 9:09 IST

Eid-Al-Adha: बकर ईद के अवसर पर 31 जुलाई से 1 अगस्त के बीच बकरियों, भेड़ों, भैंसों के वध और ऐसे मांस के सेवन पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग करने वाली दो जनहित याचिकाओं (पीआईएल) पर गुजरात हाईकोर्ट ने सुनवाई की. अदालत ने कहा कि अहमदाबाद शहर में पहले से ही जारी की गई अधिसूचना राज्यभर में भी जारी की जानी चाहिए. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार गुजरात हाई कोर्ट चाहता है कि सभी जिले सार्वजनिक रूप से पशु वध पर प्रतिबंध लगा दें.

अहमदाबाद पुलिस आयुक्तालय ने 25 जुलाई को सीआरपीसी की धारा 144 के तहत एक आदेश पारित किया था, जिसमें अहमदाबाद शहर में सार्वजनिक स्थानों या पशु जुलूसों में पशु बलि पर प्रतिबंध लगाया गया था. पुलिस आयुक्त आशीष भाटिया द्वारा जारी अधिसूचना में केवल सार्वजनिक क्षेत्रों में ही नहीं बल्कि निजी स्थानों पर भी ऐसी बलि पर रोक लगा दी है, जो जनता के लिए विजिबल हो. कहा गया है था यह जनता के सांप्रदायिक सद्भाव को बाधित कर सकता है.


मुख्य न्यायाधीश विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला की खंडपीठ ने निर्देश दिया कि अधिसूचना गुजरात राज्य भर में संबंधित जिलों के सभी पुलिस अधीक्षकों द्वारा जारी की जाएगी." राजकोट के निवासी यश शाह ने जनहित याचिका दायर कर वध पर रोक लगाने की मांग की थी.

ईद अल अजहा त्योहार के दिन बकरे की कुर्बानी देनी की धार्मिक मान्यता है. इसीलिए मुसलमानों में बकरीद एक प्रमुख त्योहार होता है. बकरीद को मीठी ईद के करीब दो माह बाद मनाया जाता है. इस इस्लामिक त्योहार (Islamic Festivals) को कुर्बानी देने वाले त्योहार के रूप में मनाया जाता है. यह त्योहार इस्लामिक कैलेंडर (Islamic Calendar) के जु-अल-हिज्ज महीने की आखिरी तारीख को मनाया जाता है.

दरअसल, ईद की तारीख चांद का दीदार करने के बाद तय की जाती है. इसलिए इस्लाम धर्म का हर त्योहार आने वाले साल में दस दिन पहले मनाया जाता है. इसीलिए हर तीन साल में मुस्लिम धर्म के हर त्योहार को मनाने का एक महीना कम हो जाता है.

Eid al-Adha 2020: जानिए क्यों मनाई जाती है बकरीद, ईद अल-अजहा पर कुर्बानी देने की क्या है मान्यता

First published: 31 July 2020, 9:00 IST
 
अगली कहानी