Home » इंडिया » Election Commission alert for EVM and VVPAT machine before 2019 Loksabha Election Voting
 

2019 लोकसभा चुनाव से पहले EVM को लेकर सतर्क हुआ चुनाव आयोग, शुरू की विशेष तैयारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 October 2018, 11:49 IST

2019 लोकसभा चुनाव से पहले चुनाव आयोग सतर्क हो गया है. लोकसभा चुनाव के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन यानि ईवीएम और वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल यानि वीवीपीएटी मशीन को चेक कर उन्हें देश के कोने-कोने में भेजना शुरू कर दिया गया है. दरअसल, चुनाव आयोग की कोशिश है कि लोकसभा चुनाव से पहले हर राज्यों में मशीनें सही तरीके से पहुंच जाएं.

लोकसभा चुनाव के लिए काफी सारी ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों की जरूरत पड़ेगी. इसके लिए चुनाव आयोग मशीन बनाने वाली कंपनियों के मुख्य प्रबंध निदेशकों से लगातार संपर्क में है. बता दें कि आम चुनाव के लिए लगभग 22.3 लाख बैलट यूनिट, 16.3 लाख कंट्रोल यूनिट और लगभग 17.3 लाख वीवीपीएटी मशीनों की जरूरत होगी. 

पढ़ें- चुनाव आयोग ने बताया इस दिन होंगे MP, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव

मशीनों में ऐन वक्त पर कोई बाधा न आए, इसके लिए जिला अधिकारियों को पहले स्तर की चेकिंग और ट्रेनिंग मुहैया कराने की पूरी तैयारी हो चुकी है. आयोग की कोशिश है कि देश के 10.6 लाख पोलिंग बूथों पर 100 फीसदी मशीनों की सप्लाई हो सके.

पिछले महीने जयपुर में मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत ने कहा था कि आगामी राजस्थान विधानसभा चुनाव में पहली बार सारे 200 विधानसभा क्षेत्रों में वीवीपीएटी और ईवीएम एम.3 मशीनों के जरिए चुनाव होगा. उन्होंने कहा था कि राज्य के 51,796 मतदान केंद्रों पर ईवीएम के साथ वीवीपीएटी का इस्तेमाल किया जाएगा.

पढ़ें- पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण की संपत्ति बढ़ रही है दिन दूनी-रात चौगुनी, देश के टॉप 25 अमीरों में शामिल

आपको बता दें कि पिछले कुछ चुनावों में ईवीएम की विश्वसनीयता को लेकर सवाल उठे हैं. यूपी के विधानसभा चुनाव में भाजपा की एकतरफा जीत के बाद सारी विपक्षी पार्टियों ने ईवीएम मशीनों पर सवाल उठाए थे.

First published: 7 October 2018, 11:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी