Home » इंडिया » Election Results 2018: Pakistan wants BJP to loose in Election 2018
 

पाकिस्तान भी चाहता है BJP की हार, चुनावी नतीजों को लेकर बॉर्डर पार भी हलचल

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 December 2018, 19:38 IST

देश की पांच विधानसभा चुनावों का परिणाम आज घोषित होगा. पांच राज्यों में हुए चुनावों के परिणाम अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों का सेमीफाइनल साबित हो सकते हैं. आज के चुनावी परिणामों को लेकर देश में ही नहीं बॉर्डर पार भी हलचल मची हुई है. देश के साथ ही साथ पाकिस्तान भी इन चुनावों के नतीजों पर नजर बनाए हुए है. पाकिस्तानी मीडिया में भी भारत के पीएम मोदी की विजय लहर को लेकर सुगबुगाहट देखी जा रही है.

पाकिस्तानी मीडिया ने चुनाव नतीजों के पहले आये रुझानों के हिसाब से भाजपा को घाटे में बताया है. पाकिस्तानी मीडिया जिओ टीवी का कहना है कि राज्य के विधानसभा चुनावों में प्रधानमंत्री मोदी को घाटा हो सकता है. भारत में बढ़ते कृषि संकट और युवाओं के लिए नौकरियों की कमी चुनावों में पीएम मोदी को करारी हार दे सकती है. पीएम मोदी की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) चुनावों में तीन राज्यों में सबसे महत्वपूर्ण बढ़त खो सकती है, जबकि क्षेत्रीय दलों के प्रभुत्व वाले दो छोटे राज्यों में इसकी उपस्थिति कम है.

पाकिस्तानी मीडिया ने पीएम मोदी की सरकार को हिन्दूवादी बताते हुए कहा है कि 2014 के आम चुनावों में सत्ता में आने के बाद मोदी के हिंदू राष्ट्रवादियों के लिए यह नुकसान सबसे बड़ा होगा. आज के चुनावी नातेजोन का असर देश में अगले साल होने वाले आम चुनावों पर पड़ेगा. मुख्य विपक्षी कांग्रेस पार्टी के एक नेता सचिन पायलट के बयान का हवाला देते हुए जिओ टीवी ने कहा, "आज के चुनावी परिणाम 2019 के चुनाव के लिए जनता का रुख और बीजेपी की किस्मत निर्धारित करेंगे."

पाकिस्तानी मीडिया ने मोदी के स्वच्छ भारत अभियान समेत कई योजनाओं के सफल होने का हवाला दिया. कृषि की कीमतों में कमी, ग्रामीण मजदूरी में धीमी वृद्धि और नए देशव्यापी सामान और सेवा कर से प्रभावित छोटे व्यवसायों ने भी दिल्ली और मुंबई में हजारों किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन को उकसाया है. ये मोदी सरकार की नीतियों के फेल होने जो दर्शाता है.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान के इमरान खान भारत में नरेंद्र मोदी की जगह इनको बनाना चाहते हैं PM !

गौरतलब है कि पाकिस्तान के नए निजाम इमरान खान ने भी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘‘मुस्लिम विरोधी और पाकिस्तान विरोधी’’ बताया है. और इसी के साथ ये उम्मीद भी जताई कि भारत में होने वाले आम चुनावों के बाद दोनों देशों के बीच फंसी हुई द्विपक्षीय वार्ता फिर से शुरू हो सकती है. इस बयान के हवाले से ये कहा जा सकता है कि पाकिस्तान भारत में सत्ता परिवर्तन की उम्मीद में हैं.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बीते दिनों ‘वॉशिंगटन पोस्ट’ को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ''भारत में चुनाव आने वाले हैं. (भारत के) सत्ताधारी दल का रुख मुस्लिम विरोधी और पाकिस्तान विरोधी है. उन्होंने मेरी सभी पहल को खारिज कर दिया...उम्मीद करें कि चुनावों के खत्म होने के बाद हम फिर से भारत के साथ वार्ता शुरू कर पाएंगे.''

अब देखना ये है कि आज घोषित होने वाले चुनावी नतीजे कमल खिलाएंगे या एग्जिट पोल के अनुसार सत्ता से बीजेपी का सूपड़ा साफ़ होगा. लेकिन एक बात तो तय है कि भारत के चुनावों को लेकर हालचाल पाकिस्तान में भी तेज है.

First published: 11 December 2018, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी