Home » इंडिया » Election Results 2019: Ashok Gehlot has made 93 out of 130 rallies in Rajasthan only in support of son
 

अशोक गहलोत ने राजस्थान में 130 में से 93 रैली सिर्फ बेटे के समर्थन में की, खतरे में CM की कुर्सी

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 May 2019, 12:42 IST

लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस पार्टी राजस्थान में खाता खोलने में भी असफल रही है. इस बड़ी हार का ठीकरा अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर फोड़ा जा सकता है. माना जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उनसे खासे नाराज चल रहे हैं और उनकी मुख्यमंत्री की कुर्सी जा सकती है.

दरअसल, अशोक गहलोत ने लोकसभा चुनाव में 130 में से 93 रैली अपने बेटे बैभव गहलोत के समर्थन में की थी. कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष ने बेटे वैभव गहलोत को टिकट दिलाने को लेकर भी अशोक गहलोत पर गुस्सा जाहिर किया था. इसके बाद राजस्थान कांग्रेस के नेता भी गहलोत की मुश्किलें बढ़ा रहे हैं.

गहलोत सरकार के कई मंत्रियों और विधायकों ने मांग की है कि लोकसभा चुनाव में शिकस्त के लिए जवाबदेही तय करने के साथ कार्रवाई भी होनी चाहिए. कहा जा रहा है कि गहलोत पर इस्तीफे का दबाव है, हालांकि इसके लिए गहलोत तैयार नहीं हैं. गहलोत और राज्य के उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट दिल्ली में डटे हुए हैं. लेकिन राहुल गांधी ने कल उऩको मिलने का समय नहीं दिया.

गहलोत के बेटे वैभव गहलोत जोधपुर से चुनाव लड़े थे. गहलोत अपने बेटे के पक्ष में कई दिनों तक डटे रहे थे. उन्होंने 130 में से 93 सिर्फ अपने बेटे के लिए की थीं. फिर भी वैभव चुनव हार गए. इसी वजह से राहुल गांधी ने नाराजगी जताई. 25 मई को हुई सीडब्ल्यूसी की बैठक में राहुल गांधी ने कहा कि अशोक गहलोत ने पार्टी से ज्यादा अपने बेटे को महत्व दिया और उनको ही जिताने में लगे रहे.

वहीं गहलोत ने इस पर कहा कि राहुल की बात को अलग संदर्भ में पेश किया गया. लेकिन गहलोत ने यह भी कहा कि पार्टी अध्यक्ष कोई भी फैसला लेने के लिए अधिकृत हैं. राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास भी बदलाव के सपोर्ट में हैं. खाचरियावास ने कहा, "राहुल गांधी से ऊपर कोई नहीं है और उन्होंने पूरा सोच-समझकर यह कहा होगा. कांग्रेस के सभी नेता और कार्यकर्ता उनके शब्दों का सम्मान करते हैं. अगर राहुल गांधी वरिष्ठ नेताओं की कमी पाते हैं तो उनका अधिकार है कि वह जवाबदेही तय करें और कार्रवाई करें." इसके अलावा सरकार के एक और मंत्री भंवरलाल मेघवाल भी हार के लिए तत्काल जवाबदेही चाहते हैं.

शर्मनाक हार के बाद कांग्रेस में इस्तीफों की झड़ी, अब झारखंड-असम के प्रदेश अध्यक्षों ने की पेशकश

वीर सावरकर को लेकर कांग्रेस के CM भूपेश बघेल के बयान से मचा बवाल, PM मोदी ने ट्वीट किया वीडियो

First published: 28 May 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी