Home » इंडिया » Encounter between Security forces and Terrorist at Marwal Area of Pulwama district in Jammu Kashmir
 

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, दोनों ओर से जबरदस्त गोलीबारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 September 2020, 8:25 IST

Pulwama Encounter: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) में सुरक्षा बलों (Security Forces) और आतंकवादियों (Terrorists) के बीच मुठभेड़ (Encounter) की खबर है. बताया जा रहा है कि पुलवामा के मारवाल इलाके (Marwal Area) में सुरक्षा बलों ने कुछ आतंकियों को घेर लिया है. दोनों ओर से जबरदस्त गोलीबारी हो रही है. कश्मीर जोन (Kashmir Zone) के एक पुलिस अधिकारी (Police Officer) ने बताया कि पुलिस और सुरक्षा बल आतंकियों से मोर्चा लिए हुए हैं. इससे पहले सोमवार को भी आतंकियों ने अपनी नापाक हरकत को अंजाम देने की कोशिश की. लेकिन समय रहते सुरक्षा बलों ने आतंकियों की इस नापाक हरकत को नाकाम कर दिया.

दरअसल, सोमवार को आतंकवादियों ने घाटी में सैन्य वाहनों के काफिले को उड़ाने की साजिश रची थी, लेकिन इसे नाकाम कर दिया गया. आतंकियों ने श्रीनगर-बारामुला हाईवे पर आईईडी प्लांट कर रखी थी. सुरक्षाबलों ने इसे समय रहते ढूंढ लिया और निष्क्रिय कर दिया. इसके साथ ही आतंकियों की साजिश को विफल करने में सफलता मिली. आतंकियों ने श्रीनगर-बारामुला हाईवे पर उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के पट्टन के कूटा मोड़ के करीब एक पुल के पास आईईडी (IED) लगा रखी थी.


मॉनसून सत्र: TMC सांसद ने की वित्त मंत्री के पहनावे पर टिप्पणी, संसदीय कार्य मंत्री ने कहा माफी मांगें

जब सोमवार सुबह रोड ओपनिंग पार्टी (Road Opening Party) ने कुछ संदिग्ध वस्तु देखी तो तुरंत उसका पता लगाया गया और इस रास्ते पर वाहनों का आवागमन बंद कर दिया गया. छानबीन करने पर पता चला कि यह आईईडी है. इस पर बम निरोधक दस्ते को बुलाकर इसे निष्क्रिय किया गया. रोड ओपनिंग पार्टी में शामिल खोजी कुत्तों की मदद से आईईडी को बरामद करने में सफलता मिल सकी. सूत्रों के मुताबिक, आतंकियों ने कूटा मोड़ का चयन इसलिए किया था क्योंकि यहां वाहनों की रफ्तार कम होगी. इससे वाहनों को निशाना बनाने में आसानी रहेगी.

हिंदी दिवस: क्या आप जानते हैं? हिंदी नहीं है हमारी राष्ट्रभाषा

मानसून सत्र के पहले ही दिन 17 सांसद निकले कोरोना पॉजिटिव, BJP की मीनाक्षी लेखी का नाम भी शामिल

बता दें कि इससे पहले भी आतंकवादी उत्तरी कश्मीर में आईईडी के जरिये सुरक्षा बलों के काफिले को नुकसान पहुंचाने की कोशिशें कर रहे हैं. इससे पहले 11 सितंबर को बारामुला जिले के राफियाबाद इलाके के चतलूरा में आतंकवादियों ने चार किलो आईईडी लगाई थी. लेकिन सुरक्षा बलों को इस बात का पता चल गया और इसे भी निष्क्रिय कर दिया गया. जिससे आतंकवादियों की ये चाल भी नाकाम हो गई थी.

भारत-चीन तनाव पर आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह संसद में दे सकते हैं बयान

First published: 15 September 2020, 8:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी