Home » इंडिया » Every 1 out of 5 internet users have to struggle with online harassment, know the reason
 

पाकिस्तान से ज्यादा भारत में होता है 'ऑनलाइन उत्पीड़न', आंकड़े जानकर नहीं होगा विश्वास

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2018, 12:34 IST

भारत में इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले हर 5 में से 1 व्यक्ति को ऑनलाइन उत्पीड़न का शिकार होना पड़ता है. ये खुलासा एक सर्वे के आधार पर किया गया है. लाइरेन एशिया नाम के एक थिंक-टैंक ने एक रिसर्च के बाद ये बताया है कि भारत में हर पांचवे इंटरनेट यूजर को उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है.

15 से 65 साल की उमर् के 919 इंटरनेट यूज़र्स में से 175 ने ऑनलाइन उत्पीड़न की शिकायत दर्ज की है. ये आंकड़ा पाकिस्तान और बांग्लादेश के आंकड़ों से कहीं ज्यादा है. ग्रामीण इलाकों में ये संख्या शहरी क्षेत्रों की तुलना में बहुत अधिक है.

ग्रामीण इलाकों में 20% वहीं शहरी इलाकों में 17% लोग इसका शिकार होते हैं. इसी के साथ एक चौंकाने वाला आंकड़ा भी सामने आया है. इसके अनुसार पुरुषों को महिलाओं के मुकाबले ज्यादा उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है. पुरूषों में ये आंकड़ा 20% वहीं महिलाओं में ये आंकड़ा 17% पाया गया है.

सरकार के पास देने को भोजन और नौकरी नहीं, ऐसे में भीख मांगना अपराध कैसे?

इसी के साथ भारत में जिन लोगों ने ऑनलाइन उत्पीड़न को झेला है उनमें से आधे लोगों को अपमानजनक नामों से बुलाया जाता है. वहीं कुछ लोगों को जान कर प्रताड़ित किया गया. और कई लोगों को साइबर- स्टॉकिंग का सामना करने पड़ा या फिर अप्रिय तरीके से उनसे संपर्क करने की कोशिश की गई.

इसी तरह से 38% लोगों को ये भी नहीं पता कि उनका उत्पीड़न आखिर किया क्यों गया? वहीं 20% लोगों का मानना है कि ये उत्पीड़न उन्हें धर्म, जाति, लिंग-भेद और राजनीति के कारण हुआ. इस ऑनलाइन उत्पीड़न में 29% लोगों का उत्पीड़न चैट एप्लीकेशन इस्तेमाल करने के दौरान तो वहीं 16% का वेबसाइट पर आए कमेंट्स से हुआ. वहीं 7% लोगों को ऑनलाइन गेमिंग के जरिए उत्पीड़ित किया गया.

लड़कियों से ज्यादा लड़के होते हैं यौन उत्पीड़न के शिकार !

रिसर्च में ये भी खुलासा किया गया कि उत्पीड़न किए जाने वाले लगभग आधे लोगों को इसका कोई फर्क नहीं पड़ता. ऐसे लोग इंटरनेट का इस्तेमाल कम कर देते हैं. इनका प्रतिशत 28% है.वहीं 15% लोग उन एप्लीकेशन्स को ही डिलीट कर देते हैं. इनमें से केवल 5% लोग ही उत्पीड़न करने वाले कॉंटेक्ट को ब्लॉक करते हैं. 

First published: 9 August 2018, 12:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी