Home » इंडिया » Everyone have faith on God in Chhattisgarh.
 

जनसंख्या आंकड़े: इस देश में लगभग सबको है भगवान पर भरोसा

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 August 2016, 7:08 IST

छत्तीसगढ़ की कुल आबादी दो करोड़ 55 लाख 45 हजार से ज्यादा है, मगर यहां करीब सभी लोग आस्थावान हैं. छत्तीसगढ़ में महज 14 लोग ही हैं जो भगवान को नहीं मानते. इनमें दो ग्रामीण और 12 शहरी हैं. 

यहां सिर्फ 8 पुरुष और 6 महिलाओं ने खुद को नास्तिक बताया है. यह खुलासा 2011 की जनगणना के नए आंकड़ों में किया गया है. आस्थावानों की सूची में छत्तीसगढ़, सिक्किम के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा प्रदेश है.

सिक्किम में महज दस लोग ही नास्तिक हैं. मगर आबादी के हिसाब से सिक्किम बहुत ही छोटा राज्य है, जहां करीब 6 लाख लोग ही रहते हैं. पहली बार किसी जनगणना में नास्तिकों के आंकडें को जारी किया गया है.

इन दोनों राज्यों के अलावा जम्मू-काश्मीर (30), चंडीगढ़ (89), राजस्थान (77), बिहार (47), नागालैंड (21), मणीपुर (39), मिजोरम (30), त्रिपुरा (53), झारखंड (36) और गोवा (61) ऐसे राज्य हैं जहां नास्तिकों की संख्या सौ से भी कम है. जनगणना 2011 की रिपोर्ट ने प्यु रिसर्च सेंटर के उस दावे को खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि भारत में नास्तिकों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है.

24 हजार ने नहीं बताया धर्म

वहीं, छत्तीसगढ़ में 24 हजार ऐसे लोग हैं जिन्होंने अपना धर्म जाहिर नहीं किया है. इन्हें धर्म न बताने वालों की श्रेणी में रखा गया है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक, छत्तीसगढ़ के गांवों में 18 हजार 231 लोगों ने खुद को धार्मिक पहचान से अलग रखा है. 

वहीं, शहरों में इनकी संख्या 5 हजार से ज्यादा है. यहां एक विशेष बात यह भी है कि आबादी के लिहाज से मुस्लिम और ईसाइयों की जनसंख्या करीब-करीब बराबर है. राज्य में 51 लाख मुसलमान और 49 लाख ईसाई है, जबकि एक करोड़ 60 लाख (93%) हिंदू हैं.

First published: 1 August 2016, 7:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी