Home » इंडिया » Ex-CBI Interim Chief Nageswara Rao Held Guilty of Contempt for Transferring Officer
 

CBI के पूर्व अंतरिम चीफ नागेश्वर राव को SC ने दी दिनभर कोर्ट में बैठने की सजा, लगाया एक लाख का जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 February 2019, 16:02 IST

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को पूर्व सीबीआई अंतरिम प्रमुख नागेश्वर राव को अवमानना का दोषी माना है. सुप्रीम कोर्ट ने राव पर एक लाख रुपये का जुर्माना और कोर्ट की कार्यवाही चलने तक पीछे बैठने की सजा सुनाई है. राव पर आरोप है कि उन्होंने शीर्ष अदालत के आदेश के खिलाफ बिहार शेल्टर होम बलात्कार के मामलों की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारी का ट्रांसफर किया था. इससे पहले अदालत ने राव के माफीनामे को खारिज कर दिया था.

अदालत ने कहा कि यह समझ समझ से परे है कि अदालत को विश्वास में लिए बिना राव ने जांच अधिकारी का तबादला कर दिया. राव ने सोमवार को स्वीकार किया कि उन्होंने पूर्व संयुक्त निदेशक एके शर्मा को स्थानांतरित करने में गलती की और सर्वोच्च न्यायालय से माफी मांगते हुए कहा कि उनका आदेशों को दरकिनार करने का कोई इरादा नहीं है.

उन्होंने स्वीकार किया कि 31 अक्टूबर और 28 नवंबर 2018 को सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के मद्देनजर, मुझे इस अदालत के पूर्व अनुमोदन के बिना भी ए के शर्मा को अपनी पदोन्नति में राहत देने के लिए कानूनी सलाह से सहमत नहीं होना चाहिए." 7 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई ने शर्मा को स्थानांतरित करने के लिए भारी पड़ताल की, जो बिहार के आश्रय गृह मामलों की जांच कर रहे थे.

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने पहले के दो आदेशों के उल्लंघन को गंभीरता से लिया और राव को 17 जनवरी को अदालत से पूर्व अनुमति के बिना शर्मा को सीआरपीएफ में स्थानांतरित करने के लिए अवमानना नोटिस जारी किया. राव ने कहा, "मैं अपनी गलती को स्वीकार करता हूं और बिना शर्त और बिना शर्त माफी मांगता हूं. मैं सबसे विनम्रता से प्रार्थना करता हूं''.

राफेल डील से 15 दिन पहले अनिल अंबानी मिले थे फ्रांस के रक्षा अधिकारियों से : रिपोर्ट

First published: 12 February 2019, 12:32 IST
 
अगली कहानी