Home » इंडिया » Shiv Shankar Menon: After 26/11 Mumbai attack we want to attack terror camps in Pakistan
 

'26/11 मुंबई हमले के बाद पाकिस्तान में घुसकर मारना चाहते थे', पूर्व एनएसए का खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 October 2016, 13:21 IST

यूपीए सरकार के कार्यकाल में देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे शिवशंकर मेनन ने एक बड़ा खुलासा किया है. मेनन ने कहा है कि 26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले के बाद वह पाकिस्तान में मौजूद आतंकी कैंपों पर हमला करके पाक को सबक सिखाना चाहते थे.

मेनन विदेश सचिव की जिम्मेदारी भी निभा चुके हैं. मेनन का कहना है, "मुंबई पर आतंकी हमले के बाद मैं चाहता था कि तुरंत पाकिस्तान में स्थित लश्कर-ए-तैयबा के पोओके और मुरीदके के आतंकी कैंपों पर हमला कर उसे बर्बाद कर दिया जाए." मुंबई हमले में 164 लोगों की जान गई थी.

शिवशंकर मेनन के मुताबिक उस वक्त वो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के खिलाफ कार्रवाई के समर्थन में थे. शिवशंकर मेनन 'च्वाइसेस: इनसाइड द मेकिंग ऑफ इंडियाज फॉरेन पॉलिसी' नाम से एक किताब भी लिख चुके हैं.

इस किताब में भी शिवशंकर मेनन ने एक चैप्टर में लिखा है, "सैन्य अभियान के बजाय डिप्लोमेटिक, छद्म और दूसरे तरीकों पर ध्यान केंद्रित करना समय और जगह के हिसाब से ज्यादा सटीक रहा."

पूर्व एनएसए के मुताबिक मुंबई हमले के बाद उन्हें लगता था कि तीन दिन तक खिंचे आतंकी हमले से भारतीय पुलिस और सुरक्षाबलों की छवि पर बुरा असर पड़ा.

26/11 मुंबई हमले के दौरान शिवशंकर मेनन विदेश सचिव थे. बाद में उन्हें मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की जिम्मेदारी सौंपी गई थी.

हाल ही में भारतीय सेना ने पीओके में स्थित आतंकी कैंपों पर हमले की बात कही थी. डीजीएमओ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया, जिसमें कई आतंकी कैंप तबाह हो गए, हालांकि पाकिस्तान इस दावे को नकारता रहा है. उसने अपने दो सैनिकों के मारे जाने की बात मानी है.

First published: 28 October 2016, 13:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी