Home » इंडिया » Facebook data leak : Cambridge Analytica How data used to acquire voters
 

फेसबुक से चुराए गए आपके निजी डेटा का चुनावों में ऐसे इस्तेमाल होता है

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 March 2018, 16:37 IST

पिछले एक हफ़्ते से लगातार एक ब्रिटिश कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा फेसबुक से 5 करोड़ लोगों का डेटा चुराकर अमेरिकी चुनावों को प्रभावित करने की खबर ने तहलका मचा दिया है. पिछले एक दशक से फेसबुक और ट्विटर चुनाव प्रचार का एक मजबूत माध्यम सिद्ध हुआ है. लेकिन अब हमें यह जानना काफी नहीं है कि इन सोशल मीडिया प्लेटफार्मों का उपयोग सिर्फ बयानबाजी तक सीमित नहीं है.

फेसबुक इस्तेमाल के दौरान आप अपनी पसंद और नापसंद को अक्सर जाहिर करते हैं. यही कारण है कि फेसबुक के पास आपके पसदं और नापंसद को लेकर पर्याप्त डेटा है. वह यह भी जानता है कि आप किस प्रकार के लोगों का अनुसरण करते हैं. इस डेटा के आधार पर ही फेसबुक आपके सामने अनेक प्रकार के विज्ञापन या पेज पेश करता है.

यूजर्स के बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए कैंब्रिज एनालिटिका ने 'thisisyourdigitallife' नामक ऐप का इस्तेमाल किया. फर्म ने एलेक्जेंडर कोगन से डेटा हासिल कर लिया, जिसने फेसबुक पर व्यक्तिगत प्रोफाइल को टैप करने के लिए एक क्विज ऐप को तैयार किया था. इस ऐप में एक व्यक्तित्व से जुडा हुआ क्विज था. यह क्विज ऐसे तैयार किया गया था कि इसमें राजनीतिक झुकाव और अन्य संबंधित पहलुओं पर ज्यादा जोर दिया गया था. इस डेटा के आधार पर आसानी से तय किया जा सकता है कि आप किस पार्टी के वोटर हैं.

मतदाताओं को टारगेट करने के लिए यह डेटा कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है. यह सबसे महत्वपूर्ण सवाल है. कैंब्रिज एनालिटिका ने इसी तरह के आंकड़ों के साथ ऐसे वोटरों के दिमाग टारगेट किया जो अभी किसी भी वोटर के पक्ष में वोट डालने का मन नहीं बना पाए थे.

 

ये भी पढ़ें : आखिर भारत में कैसे आयी ब्रिटेन की विवादित कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ?

फेसबुक से करोड़ों यूजर्स का डेटा चुराने वाली ब्रिटेन की विवादित कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने अपनी वेबसाइट पर दावा किया है कि उसने 2010 के बिहार विधानसभा चुनाव में एक पार्टी के लिए काम किया था. कंपनी का कहना है कि इस चुनाव ने उसके क्लाइंट ने जोरदार जीत हासिल की थी. 2013 में स्थापित, कैम्ब्रिज एनालिटिका की मूल कंपनी स्ट्रेटेजिक कम्युनिकेशन लैबोरेट्रीज (एससीएल) है. इसने भारत में स्ट्रेटेजिक कम्युनिकेशन लैबोरेट्रीज प्राइवेट लिमिटेड नामक एक भारतीय कंपनी के माध्यम से काम किया.

कंपनी के रिकॉर्ड बताते हैं कि फर्म के चार डायरेक्टर हैं -अलेक्जेंडर जेम्स एशबर्नर निक्स, अलेक्जेंडर वाडिंगटन ओके, अमरीश कुमार त्यागी, और अवनीश कुमार राय. पहले दो ब्रिटिश नागरिक हैं जो 2005 में यूके में एससीएल के चार सह-संस्थापकों में शामिल थे. अमरीश त्यागी जनता दल (यूनाईटेड) के नेता के.सी. त्यागी के बेटे हैं. वह ऑवलेनो बिजनेस इंटेलिजेंस नाम की एक फर्म भी चलाते हैं. जो अब भारत में कैंब्रिज एनालिटिका के साथ काम करती है. लेकिन एससीएल इंडिया के चौथे निदेशक अवनीश कुमार राय कुमार राय कौन हैं?

First published: 23 March 2018, 16:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी