Home » इंडिया » Family of former President of India has also been excluded from NRC list
 

NRC से भारत के पूर्व राष्ट्रपति के परिवार को भी कर दिया गया बाहर

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 September 2019, 10:55 IST

असम में एनआरसी की अंतिम सूचि आने के बाद 19 लाख से ज्यादा लोगों के नाम शामिल नहीं किये गए हैं, ऐसे में कई लोगों के नाम नहीं आने पर सवाल उठ रहे हैं. भारत के पांचवें राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिवार के चार सदस्यों का नाम भी इस लिस्ट से बाहर रखा गया है. फखरुद्दीन अली अहमद 1974 से 1977 तक भारत के पांचवें राष्ट्रपति थे. एनआरसी की अंतिम लिस्ट में फखरुद्दीन अली अहमद के भाई के बेटे का परिवार अंतिम एनआरसी में सूचीबद्ध नहीं है. इंडिया टुडे रिपोर्ट के अनुसार फखरुद्दीन अली अहमद के भतीजे के बेटे साजिद अली अहमद ने कहा कि उनका नाम अंतिम एनआरसी में सूचीबद्ध नहीं था.

सिर्फ साजिद अली अहमद ही नहीं उनके पिता भी असम एनआरसी की अंतिम सूची में शामिल नहीं हुए हैं. साजिद अली अहमद ने कहा ''मेरे दादा का नाम इकरामुद्दीन अली अहमद है और वह पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के भाई हैं. मैं उनका पोता हूं. हम रोंगिया उप-डिवीजन के बरभगिया गांव में रह रहे हैं. हम यहां के स्थानीय निवासी है और हमारे नाम सूचीबद्ध नहीं हैं. हम इसके बारे में चिंतित हैं''. उन्होंने कहा ''हम भारत के पूर्व राष्ट्रपति के परिवार के सदस्य हैं, लेकिन सूची में हमारे नाम गायब हैं."

 

इस तरह कई कई सरकारी कर्मचारी भी हैं, जीना नाम उन 19 लाख लोगों में शामिल थे जिन्हें एनआरसी की अंतिम सूची से बाहर रखा गया है. रिपोर्ट के अनुसार इनमें 73 वर्षीय सेवानिवृत्त भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अधिकारी सबिमल विश्वास भी अंतिम एनआरसी सूची में अपना नाम नहीं खोजने के बाद पूरी तरह से असहाय महसूस कर रहे हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि 1947 में असम के करीमगंज जिले में जन्मे, सबीमल विश्वास ने कहा कि उन्हें यह जानकर बहुत धक्का लगा कि उन्हें अपनी पत्नी और बेटी के साथ सूची से बाहर रखा गया है.

सबिमल विश्वास ने कहा, "जब मैं छात्र था, मैंने फुटबॉल खेला और डीपीआई कार्यालय (असम शिक्षा विभाग) में नियुक्त हुआ. डीपीआई कार्यालय में दो साल की सेवा के बाद, मैं 1967 में सर्वे ऑफ इंडिया में शामिल हो गया. उसके बाद, मैंने एक और नौकरी की तलाश करने का फैसला किया और एक बैंक में आवेदन किया, परीक्षा के लिए उपस्थित हुए और आखिरकार 1970 में एसबीआई में नौकरी मिल गई''.

भारतीय सेना को इस साल मिली बड़ी कामयाबी, मात्र 8 महीने में मार गिराए 139 आतंकी

First published: 2 September 2019, 10:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी