Home » इंडिया » Farmers Protest: Supreme Court bans agricultural laws till next order, committee formed for solution
 

Farmers Protest : सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक कृषि कानूनों पर लगाई रोक, गठित की कमेटी

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 January 2021, 14:34 IST

farmers Protest : सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को तीन कृषि कानूनों के कार्यान्वयन पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है. सुप्रीम कोर्ट ने गतिरोध को हल करने के लिए केंद्र सरकार और किसान यूनियनों के बीच बातचीत की सुविधा के लिए विशेषज्ञों की एक समिति गठित की है. जब अदालत से कहा गया कि किसान यूनियन समिति के सामने पेश होने के लिए तैयार नहीं है तो पीठ ने कहा कि समाधान खोजने में रुचि रखने वाले ऐसा करेंगे.

कृषि कानूनों को चुनौती देने वाली याचिका दायर करने वाले एडवोकेट एमएल शर्मा ने अदालत को बताया कि किसानों ने कहा है कि वे अदालत द्वारा गठित किसी भी समिति के समक्ष उपस्थित नहीं होंगे''. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने कहा कि हम एक कमेटी बना रहे हैं ताकि हमारे पास एक स्पष्ट तस्वीर हो. हम यह तर्क नहीं सुनना चाहते कि किसान कमेटी में नहीं जाएंगे''.


SC ने केंद्र से इस बात पर भी जवाब मांगा कि क्या एक प्रतिबंधित संगठन ने किसानों के विरोध प्रदर्शन में घुसपैठ की थी. चीफ जस्टिस ने पूछा हमारे पास एक आवेदन है जिसमें कहा गया है कि प्रतिबंधित संगठन इस प्रदर्शन में मदद कर रहे हैं. क्या अटॉर्नी जनरल इसे मानेंगे या इनकार करेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऐसा है तो ऐसे में केंद्र सरकार कल तक हलफनामा दे. जवाब में अटॉर्नी जनरल ने कहा कि हम हलफनामा देंगे और आईबी रेकॉर्ड भी देंगे''.

किसान संगठनों की तरफ पेश वकील एमएल शर्मा ने अदालत से कहा कि किसानों का कहना है कि कई लोग बातचीत के लिए आए हैं लेकिन मुख्य व्यक्ति प्रधानमंत्री नहीं आए हैं. इसपर चीफ जस्टिस ने कहा कि हम पीएम को बातचीत करने के लिए नहीं कह सकते हैं. वह इस मामले में पार्टी नहीं हैं. सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस के उस आवेदन पर नोटिस जारी किया जिसमें गणतंत्र दिवस पर किसानों के विरोध में प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली को रोकने की मांग की गई थी.

ANI के अनुसार सिंघु बॉर्डर से किसानों ने कहा ''सुप्रीम कोर्ट के रोक का कोई फायदा नहीं है क्योंकि यह सरकार का एक तरीका है कि हमारा आंदोलन बंद हो जाए. यह सुप्रीम कोर्ट का काम नहीं है यह सरकार का काम था, संसद का काम था और संसद इसे वापस ले. जब तक संसद में ये वापस नहीं होंगे हमारा संघर्ष जारी रहेगा''.

National youth day 2021: 'निडर, बेबाक, साफ दिल वाले, साहसी और आकांक्षी युवा ही वो नींव है'

First published: 12 January 2021, 14:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी