Home » इंडिया » Farmers will not rally farmers on January 26 if Supreme Court orders: Rakesh Tikait
 

सुप्रीम कोर्ट ऑर्डर देता है तो किसान 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली नहीं करेंगे : राकेश टिकैत

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 January 2021, 15:05 IST

भारतीय किसान यूनियन (BKU) के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने शुक्रवार को कहा कि यदि सुप्रीम कोर्ट आदेश देता है तो किसान गणतंत्र दिवस पर प्रस्तावित ट्रैक्टर जुलूस को वापस ले लेंगे. टिकैत ने कहा "हम दूसरे दिन रैली करेंगे." बीकेयू प्रवक्ता ने पहले कहा था कि किसान लाल किले से इंडिया गेट तक जुलूस निकालेंगे और गणतंत्र दिवस पर अमर जवान ज्योति पर राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे.

किसान संघों और केंद्र सरकार के विरोध के बीच नौवें दौर की बातचीत के पहले यह बयान आया है. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेलवे, वाणिज्य और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश, जो पंजाब से सांसद हैं, दिल्ली में विज्ञान भवन में लगभग 40 किसान यूनियनों के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत कर रहे हैं.


टिकैत ने कहा ''कानून संसद लेकर आई है और ये वहीं खत्म होंगे. कानून वापस लेने पड़ेंगे और MSP पर कानून लाना पड़ेगा. शीर्ष अदालत द्वारा गतिरोध को हल करने के लिए चार सदस्यीय समिति की नियुक्ति के बाद यह पहली बैठक है. सरकार के साथ बैठक में भाग ले रहे किसान प्रतिनिधियों ने कृषि कानूनों में संशोधन करने के केंद्र के प्रस्ताव को खारिज कर दिया है. वे कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग पर अड़े हैं. टिकैत ने कहा कि सरकार को तीन कानूनों को खत्म करने और एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी देने की योजना तैयार करने की जरूरत है, सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बनी समिति की तुलना में सरकार के साथ बातचीत करना बेहतर है.

9 वें दौर की बैठक से पहले केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा ''भारत सरकार उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करती है और उच्चतम न्यायालय की बनाई समिति जब सरकार को बुलाएगी तो हम अपना पक्ष समिति के सामने रखेंगे. आज वार्ता की तारीख़ तय थी इसलिए किसानों के साथ हमारी वार्ता जारी है.'' उन्होंने कहा हम लगातार कोशिश कर रहे हैं कि किसानों के साथ चर्चा के माध्यम से कोई रास्ता निकल आए. आज कानूनों पर चर्चा होगी.''

इधर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी कृषि कानूनों के खिलाफ जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस सांसदों से मिले. राहुल गांधी ने कहा ''ये तीन कानून किसान को खत्म करने के कानून हैं. इस देश को आज़ादी अंबानी-अदानी ने नहीं, किसान ने दी है. आज़ादी को बरकरार हिन्दुस्तान के किसान ने रखा है, जिस दिन देश की खाद्य सुरक्षा चली जाएगी उस दिन देश की आज़ादी चली जाएगी''.

राहुल गांधी ने कहा ''नरेंद्र मोदी हिन्दुस्तान को नहीं समझ रहे हैं, वो सोचते हैं कि किसानों में शक्ति नहीं है और ये 10-15 दिन में चले जाएंगे क्योंकि नरेंद्र मोदी किसान की इज्जत नहीं करते. नरेंद्र मोदी हिन्दुस्तान का किसान नहीं डरेगा, नहीं हटेगा और भागना आपको पड़ेगा.''

Farmers Protest : किसानों का प्रदर्शन 51वें दिन भी जारी, भूपिंदर सिंह मान ने बताया कमेटी क्यों छोड़ी

First published: 15 January 2021, 15:00 IST
 
अगली कहानी