Home » इंडिया » father of major aditya kumar seeking quashing of the fir registered on kumar, supreme court to hear the plea
 

कश्मीरी पत्थरबाजों पर गोली चलाने के आरोप में दर्ज हुई थी FIR, मेजर के पिता पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2018, 12:47 IST

जम्मू- कश्मीर के शोपियां में सिविलियन हत्या का मामला और उलझता जा रहा है. जम्मू- कश्मीर पुलिस द्वारा सेना के मेजर रैंक के अधिकारी पर सिविलियन की हत्या के आरोप में एफआईआर दर्ज कराने कि खिलाफ उनके पिता सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं. मेजर के पिता ने अपने बेटे के खिलाफ मुकदमा रद्द करने की मांग कर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर दी है.

दरअसल, जम्मू-कश्मीर के शोपियां में 27 जनवरी को पथराव कर रही भीड़ पर फायरिंग की घटना में दो नागरिक मारे गए थे और एक अन्य घायल हो गया था. घायल नागरिक की भी बाद में मौत हो गई थी.

सेना ने कहा था कि जवानों ने गांव में प्रशासनिक दस्ते पर हमले के बाद आत्मरक्षा में गाली चलाई थी. जिसके बाद जम्मू- कश्मीर पुलिस ने मेजर रैंक के अधिकारी आदित्य कुमार के खिलाफ सिविलियन की हत्या का आरोप लगाकर एफआईआर दर्ज की थी.

अपनी याचिका में आदित्य कुमार के पिता ने कहा कि इससे राज्य में आतंकवादियों के खिलाफ लड़ रहे जवानों का मनोबल गिरेगा. उनके पिता ने सर्वोच्च अदालत से अपील की है कि उनके बेटे पर दर्ज एफआईआर रद्द की जाए. इस मामले पर शुक्रवार को कोर्ट में सुनवाई होगी.

 

मेजर के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल करमवीर सिंह ने अपनी याचिका में कहा कि एफआईआर से राज्य में अपनी सेवाएं दे रहे जवानों के मनोबल को धक्का लगेगा. उन्होंने कहा, “जिस तरह से, राज्य के राजनीतिक नेतृत्व और उच्च प्रशासन ने एफआईआर को चित्रित और पेश किया, वह अत्यधिक शत्रुतापूर्ण माहौल को दिखाता है.”

उन्होंने अपनी याचिका में कहा, “इस परिस्थिति में, भारतीय संविधान के अनुच्छेद 14 और 21 के अंतर्गत, याचिकाकर्ता के पास अपने बेटे और खुद के मूलभूत अधिकारों की रक्षा के लिए संविधान के अनुच्छेद 32 के अंतर्गत अदालत का रुख करने के अलावा और कोई उपाय नहीं बचा.”

First published: 9 February 2018, 12:00 IST
 
पिछली कहानी