Home » इंडिया » Female thief getting active in metro, keep your pocket safe
 

मेट्रो में खूबसूरत चेहरों से हो जाएं सावधान, वरना हो सकता है बड़ा नुकसान !

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 January 2019, 10:30 IST

मेट्रो में चोरियों के मामले बढ़ने पर सीआईएसएफ ने एक ख़ास मुहीम चलाई थी, इसके बाद बीते साल चोरी की वारदातों में कमी तो आई, लेकिन जो आंकड़े सामने आये हैं वो हैरान करने वाले हैं. सीआईएसएफ के अनुसार साल 2017 के मुकाबले साल 2018 में चोरी की इन वारदातों में काफी कमी आई है. साल 2017 में जहां चोरी की 1,392 घटनाएं सामने आई थी वहीं 2018 में चोरी की ये वारदात घटकर 497 रह गई. लेकिन इसमें भी एक चौंकाने वाला आंकड़ा सामने आया है.

चोरियों के मामले तो 2018 में कम हुए लेकिन इस साल महिला चोरों की संख्या में इजाफा देखा गया. 2017 में चोरी के कुल मामलों में महिला चोर 85 फ़ीसदी थीं जबकि 2018 में कम चोरियां हुई लेकिन महिला चोर इस बार 94 फ़ीसदी रहीं.

इसी आंकड़े को देखते हुए सीआईएसएफ ने मेट्रो यात्रिओं को सावधान रहने के लिए चेताया है. आईएसएफ के अनुसार मामलों में ये सामने आया है कि महिला चोर सेंट्रल दिल्ली से मेट्रो में चढ़ती हैं. हैरत में डालने वाली बात ये भी है कि ये सभी चोर लगभग एक ही तरीके से चोरी करती हैं.

इसी के चलते सीआईएसएफ ने चेताया है कि मेट्री में यात्रा करते समय ऐसी महिलाओं या महिलाओं के कपड़े पहने हुए पुरुषों से सावधानी बरतें, जिनका व्यवहार संदिग्ध या असामान्य लगे.

पूर्व CM शीला दीक्षित ने संभाली दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष पद की कमान

अधिकारियों ने ये भी बताया कि चोरी के कई मामले भी सामने आये यहीं जहां पर पुरुषों ने महिला के कपड़े पहनकर महिला कोच में घुसे और चोरी को अंजाम दिया. सीआईएसएफ ने ये भी बताया कि महिलाओं का भेष बनाए ये पुरुष चोर सलवार-सूट पहनते हैं और सिर को पल्लू से ढक लेते हैं. उनके हाथ में बच्चा भी रहता है. जिस वजह से भीड़ में वह महिला है या पुरुष इसका अंदाजा लगाना मुश्किल हो जाता है. सीआईएसएफ के आंकड़ों की मानें तो 2018 में करीब हर महीने मेट्रो में 40 महिला चोरों को पकड़ा गया.

First published: 11 January 2019, 10:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी