Home » इंडिया » fence ministry says abduction of army soldier mohammad yaseen is incorrect in jammu and kashmir
 

जम्मू कश्मीर में जवान के अपहरण होने की खबर झूठी, रक्षा मंत्रालय ने जारी किया बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2019, 8:50 IST

जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले से शुक्रवार की शाम को एक सेना के एक जवान के लापता होने की खबर सामने आई थी.  जवान के लापता होने को लेकर पुलिस को संदेह था कि किसी आतंकवादी संगठन ने उसका अपहरण किया होगा, लेकिन ये पूरी खबर झूठी निकली है. इस बाद की पुष्टि खुद रक्षामंत्रलय द्वारा किया गया है. 

रक्षा मंत्रालय ने आधिकारिक रूप से बयान जारी करते हुए कहा कि सेना के जवान मोहम्मद यासीन की आतंकियों द्वारा अपहरण की खबर पूरी तरह से गलत है. वह पूरी तरह से सुरक्षित हैं और मीडिया में जो खबरें चल रही हैं, वह भी गलत है. इसके साथ की रक्षा मंत्रालय ने ऐसी खबरों और अफवाहों से दूर रहने के लिए कहा है. 

इस बयान से पहले अधिकारियों ने बताया था कि जम्मू कश्मीर लाइट इंफैन्ट्री रेजीमेंट में तैनात मोहम्मद यासीन के परिवार ने पुलिस को सूचना दी कि कुछ लोग काजीपुरा चदूरा में उनके घर आए और यासीन को ले गए. यासीन छुट्टी पर घर आया था. अब ये बात पूरी तरह से साफ हो गया है कि जवान मोहम्मद यासीन का अपहरण नहीं हुआ है और वे पूरी तरह से सुरक्षित हैं.

यासीन के अपहरण होने की खबर जोर पकड़ने की वजह ये है कि पुलवामा हमले के बाद भारतीय सेना द्वारा किए गए अटैक में जैश के कई ठिकाने तबाह हो गए हैं. इसके बाद से आतंकी सेना के जवानों और उनके सैन्य ठिकानों को अपना निशाना बनाए हुए हैं. 

इस घटना से पहले भी आतंकवादियों ने सेना के जवान औरंगजेब को घर से अगवा कर लिया था. औरंगजेब भी छुट्टियां बिताने अपने घर आए हुए थे. बाद में आतंकियों ने उनकी हत्या कर दी थी. वहीं, 2017 में भी सेना के लेफ्टिनेंट उमर फैयाज का किडनैप हो गया था और उनकी भी हत्या कर दी गई थी. वे भी छुट्टियां बिताने अपने घर आए हुए थे.

राफेल डील के दस्तावेज नहीं हुए हैं चोरी: अटॉर्नी जनरल

First published: 9 March 2019, 8:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी