Home » इंडिया » FIR registered against Bajrang Dal promoting enmity between different groups in Faizabad
 

ट्रेनिंग कैंप मामले में बजरंग दल के खिलाफ घृणा फैलाने का केस दर्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2016, 12:25 IST
(एएनआई)

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में 14 मई को आयोजित बजरंग दल के सालाना शौर्य प्रशिक्षण शिविर के विवादों में आने के बाद फैजाबाद पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज की है.

एसपी सिटी फैजाबाद संकल्प शर्मा को इस मामले की जांच सौंपी गई थी. तफ्तीश के बाद पुलिस ने बजरंग दल के खिलाफ दो समुदायों के बीच घृणा फैलाने का केस दर्ज किया है. पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153-ए के तहत केस दर्ज किया है.

पुलिस ने इस मामले में बिना इजाजत के हथियारों की ट्रेनिंग के लिए कैंप चलाने के खिलाफ केस दर्ज किया है. जांच के बाद अयोध्या कोतवाली में एफआईआर दर्ज की गई है. केस दर्ज करने का आधार एक समुदाय के लोगों को गलत मंशा से दिखाने को माना गया है.

पढ़ें: अयोध्या में प्रशिक्षण शिविर, आतंकी प्रशिक्षण शिविरों से अलग कैसे है?

कैंप का विवादित वीडियो

अयोध्या में आयोजित बजरंग दल के सालाना शौर्य प्रशिक्षण शिविर का विवादित वीडियो सामने आया था. ट्रेनिंग कैंप में संगठन अपने कार्यकर्ताओं को राइफल और तलवार जैसे हथियार चलाना सिखा रहा है.

खास बात ये है कि राइफल और तलवार चलाने की ट्रेनिंग के लिए डमी के तौर पर जिन लोगों को निशाने पर लिया जा रहा था, उन्हें दाढ़ी और मुस्लिम टोपी पहनाई गई थी. बजरंग दल ने शिविर को अपना सामान्य आयोजन बताया था. 

वीडियो: बजरंग दल के शिविर में नफरत की ट्रेनिंग

अयोध्या में हुआ था आयोजन

विपक्ष का आरोप है कि विधानसभा चुनाव से ठीक पहले प्रदेश का माहौल बिगाड़ने के लिए ये बीजेपी की साजिश है. कैंप के आयोजक मनोज वर्मा ने कहा कि ये बजरंग दल का वार्षिक कार्यक्रम है, ताकि कार्यकर्ता समाज और राष्ट्र के लिए खुद को समर्पित कर सकें. 

बजरंग दल का कहना है कि ये आत्मविश्वास की ट्रेनिंग है. आत्मरक्षा के लिए सामान्य नागरिक को जिस प्रकार करना चाहिए, उसके लिए ये कार्यक्रम आयोजित किया गया. 14 मई को अयोध्या में ये शिविर आयोजित हुआ था. 

यूपी के राज्यपाल राम नाईक का कहना था कि इस तरह के ट्रेनिंग कैंप के आयोजन में बुराई नहीं है. नाईक से जब इस मामले पर सवाल पूछा गया, तो उन्होंने कहा, "आत्मरक्षा के शिविर में कोई बुराई नहीं है, ज्यादा अहम ये जानना है कि इसके पीछे किस तरह की मंशा थी."

पढ़ें: राम नाईक: बजरंग दल ट्रेनिंग कैंप में बुराई नहीं

First published: 25 May 2016, 12:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी