Home » इंडिया » fire at Bhubaneswar hospital, 22 killed till now, more than 100 injured
 

ओडिशा: राजधानी भुवनेश्वर के अस्पताल में आग, 22 की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 October 2016, 8:10 IST
(फोटो साभार: अपडेट ओडिशा)

ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर के एक निजी अस्पताल में आग लगने से कम से कम 22 मरीज़ों की मौत हो गई जबकि सौ से ज़्यादा ज़ख़्मी हैं. मान जा रहा है कि आग सम अस्पताल के डायलिसिस वार्ड में शाम 7 बजकर 45 मिनट पर लगी, फिर बड़े हिस्से में फैल गई. 

आग का पता चलते ही अस्पताल के कर्मचारियों ने आईसीयू में भर्ती मरीज़ों को निकालकर दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट करना शुरू कर दिया मगर इसी दौरान कइयों की मौत हो गई. कैपिटल अस्पताल के अधीक्षक विनोद कुमार मिश्रा ने कहा, 'अभी तक हमारे पास 14 लाशें आई हैं'.

वहीं एएमआरआई अस्पताल के यूनिट हेड सलील कुमार मोहंती मे बताया कि हमारे चार वार्डों में 37 मरीज़ों को भर्ती कराया गया है जबकि आठ मरी हालत में यहां पहुंचे थे.

पीएम मोदी जताया शोक

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा है कि केंद्र सरकार हर मुमकिन मदद ओडिशा सरकार को दे रही है. नड्डा ने एम्स भुवनेश्वर के डायरेक्टर से बातकर हर तरह की मदद की बात कही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीटकर इस घटना पर दुख ज़ाहिर किया है. उन्होंने कहा कि यह घटना हृदयविदारक है और इसने दिमाग को शून्य कर दिया है.

साथ ही प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य मंंत्री जेपी नड्डा को निर्देश दिया है कि तमाम मरीजों को दिल्ली के एम्स अस्पताल लाकर उनका इलाज करवाया जाय. 

मुख्यमंत्र ने दियाजांच का आदेश

प्रदानमंत्री ने ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से भी बात की है. नवीन पटनायक ने अस्पताल में आग लगने की इस घटना को बेहद दुखद करार दिया है. उन्होंने सभी सरकारी अस्पतालों को आदेश दिया है कि सम अस्पताल के घायल मरीज़ों को इलाज मुहैया करवाएं. वहीं मुख्यमंत्री ने निजी अस्पतालों से भी आग्रह किया है कि वे आग में झुलसे मरीज़ों का इलाज करें. आग कैसे लगी, इसकी जांच के भी आदेश दे दिए गए हैं. 

कहा जा रहा है कि ज़्यादातर मौतें मरीज़ों को सम अस्पताल से निकालकर दूसरी जगह शिफ्ट करने के दौरान हुई हैं. वहीं अपुष्ट ख़बरों के मुताबिक चार मौतें झुलसने से सम अस्पताल के अंदर हुई. मरने वालों की संख्या में बढ़ोतरी की आशंका जताई जा रही है. 

सभी अस्पतालों से मदद की अपील

फिलहाल घायलों का इलाज एम्स, भुवनेश्वर, कीम्स और कलिंगा अस्पताल में चल रहा है. ओडिशा सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री सब्यासाची नायक ने कहा है कि राजधानी भुवनेश्वर और कटक के सभी सरकारी निजी अस्पताल अलर्ट पर हैं. मंत्री ने सभी अस्पताल प्रबंधनों से अपील भी की है कि वे आगे आकर मरीज़ों का इलाज करें. 

शुरुआती रिपोर्ट के बाद कहा जा रहा है कि आग अस्पताल के पहले तल पर डायलिसिस वार्ड और ऑपरेशन थियेटर में लगी. आग लगने की वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है. 

कम से कम 100 मरीज़ और उनके अटेंडेंट आग लगने से घायल हुए हैं जबकि कुछ बुरी तरह झुलसे हैं. वहीं दमकल विभाग ने कहा है कि पांच गाड़ियां तीन घंटे तक लगातार बौछार करती रहीं, फिर भी आग बार-बार भड़क जा रही थी. 

एक चश्मदीद ने अग्रेंज़ी अख़बार द हिंदू से कहा, 'मैंने मरीज़ों और अटेंडेंट को सम अस्पताल के पहले तल से खिड़की तोड़कर बाहर कूदते हुए देखा'. इसके फौरन बाद दर्जनों एंबुलेंस मरीज़ों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट करने में जुट गईं. सरकार ने डिज़ास्टर रैपिड एक्शन फोर्स की टीम को एक्टिव किया है ताकि ट्रैफिक जैसी समस्या ना पैदा हो जाए.

First published: 18 October 2016, 8:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी