Home » इंडिया » fire in medicine department kgmu hospital lucknow
 

लखनऊ KGMU के ट्रामा सेंटर में लगी आग, नवजात बच्चों को छोड़ भागा स्टाफ, 5 की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 July 2017, 8:57 IST

किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के ट्रॉमा सेंटर में शनिवार शाम भीषण आग लग गई. आग के कारण बाहर लाए गए पांच मरीजों की मौत हो गर्इ, जिनमें 3 नवजात बच्चे हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दिए हैं.

आग बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं, लेकिन पांच घंटे बाद ही आग पर काबू पाया जा सका. ट्रॉमा सेंटर में फायर फाइटिंग के लिए लगी कोई भी मशीन आग लगने के बाद काम नहीं आई न ही कोई फायर अलार्म बजा.

 

कई परिवारीजनों ने आरोप लगाया कि चौथे तल पर बने एनआईसीयू का नर्सिंग स्टाफ वहां भर्ती नवजातों को अंदर ही छोड़ कर बाहर भाग गया. जिस समय ट्रॉमा सेंटर के दूसरे फ्लोर पर आग लगी, उस वक्त ओटी में पांच मरीजों का ऑपरेशन चल रहा था. उसमें से एक मरीज को गोली लगी थी.

आग लगने के बाद उसे लोहिया अस्तपाल भेज दिया गया. लोहिया में डॉक्टरों ने उसे भर्ती करने से इनकार कर दिया. डॉक्टरों ने बताया कि इतने गंभीर मरीज के ऑपरेशन की सुविधा ही अस्पताल में नहीं है. इसके बाद रोते-बिलखते परिवारीजन मरीज को सहारा अस्पताल लेकर भागे, जहां उसकी हालत चिंताजनक बनी हुई थी.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आग लगने की घटना का तत्काल संज्ञान लेते हुए मंडलायुक्त को जांच कर तीन दिन में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं. योगी ने कहा, 'इस घटना के लिए दोषी व्यक्तियों का उत्तरदायित्व निर्धारित किया जाए, जिससे उनके विरुद्ध कार्रवाई की जा सके. साथ ही, इस प्रकार की घटना की भविष्य में पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए भी संस्तुतियां दी जाएं.'

अस्पताल सूत्रों के मुताबिक, सेंटर के ज्यादातर मरीजों को लारी और शताब्दी अस्पताल में शिफ्ट किया गया. इस दौरान मरीजों में चीख पुकार मची रही. परेशान हाल तीमारदार अपने मरीजों को लेकर इधर-उधर भागते नजर आए.

First published: 16 July 2017, 8:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी