Home » इंडिया » First Indian Pilot to Fly Rafale Air Commodore Hilal Ahmad Rather
 

हिलाल अहमद राठेर: इंडियन एयरफोर्स के पहले पायलट जिन्होंने राफेल से भरी उड़ान

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2020, 8:54 IST

Air Commodore Hilal Ahmad Rather: फ्रांस (France) से भारत (India) की ओर उड़ान (Fly) भर रहे राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jet) बुधवार (Wednesday) यानी आज अंबाला (Ambala) में एयरफोर्स स्टेशन (Air Force Station) पर लैंड करेंगे. राफेल (Rafale) के साथ आज एक और नाम हर किसी की जुबान पर है और वह है इंडियन एयरफोर्स (Indian Air Force) के अधिकारी हिलाल अहमद राठेर (Hilal Ahmad Rather) का. जिन्होंने पहली बार राफेल से उड़ान भरी और फ्रांस से राफेल को विदा करने वालों में हिलाल अहमद राठेर प्रमुख शख्स हैं.

कश्मीर (Kashmir) के रहने वाले हिलाल अहमद राठेर भारतीय वायुसेना में एयर कोमोडोर (Air Commodore) के पद पर तैनात है. उन्होंने भारतीय वायुसेना की ओर से पहली बार राफेल विमान (Rafel Jet) को उड़ाया. सोमवार को जब राफेल की पहली खेप ने भारत के लिए उड़ान भरी तो एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राठेर ने इसे विदा किया. हिलाल अहमद राठेर राफेल विमान के विपनाइजेशन से भी जुड़े रहे हैं. वह वर्तमान में फ्रांस में भारतीय एयरफोर्स के संबद्ध अधिकारी हैं. हिलाल अहमद राठेर का करियर भारतीय वायुसेना में बेहद शानदार रहा है.


वह दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग के बक्शियाबाद के एक सामान्य परिवार परिवार से ताल्लुक रखते हैं. उनके पिता मोहम्मद अब्दुल्ला राठेर जम्मू-कश्मीर पुलिस में डिप्टी एसपी थे. हिलाल की तीन बहनें हैं. वो अपने माता-पिता के इकलौते बेटे हैं. हिलाल ने जम्मू के नागरौटा सैनिक स्कूल से पढ़ाई की है. हिलाल अहमद राठेर को 17 दिसंबर 1988 को भारतीय वायुसेना में फायटर पायलट के तौर पर कमीशन मिला था. वह 1993 में फ्लाइट लेफ्टिनेंट बने और साल 2004 में ग्रुप कमांडर बन गए. उसके बाद साल 2016 में उन्हें ग्रुप कैप्टन बनाया गया और 2019 में वो एयर कोमोडोर के पद पर पहुंच गए.

जम्मू कश्मीर के LG ने कहा- परिसीमन के बाद होंगे राज्य के चुनाव, इलेक्शन कमीशन ने जताई नाराजगी

हिलाल अहमद ने डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है. उन्होंने अमेरिका के एयर वॉर कॉलेज से भी स्नातक किया है. हिलाल को वायु सेना मेडल और विशिष्ट सेवा मेडल मिल चुके हैं. वह भारतीय वायुसेना के बेहतरीन पायलटों में से एक हैं. उन्होंने मिराज-2000, मिग-21 और किरण एयरक्राफ्ट पर उड़ान के दौरान अब तक करीब 3000 घंटे का वक्त गुजारा है. उसके बाद राफेल विमान के साथ भी उनका नाम जुड़ गया है.

Video: कोरोना वायरस पर IPS अफसर की ये शानदार कविता सुनकर दिल खुश हो जाएगा

बता दें कि फ्रांस से लिए गए राफेल विमानों की पहली खेप आज अंबाला एयर बेस पर पहुंचेगी. इस खेप में पांच राफेल विमान आ रहे हैं. राफेल विमानों की अगवानी के लिए वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया अंबाला एयरबेस पर मौजूद रहेंगे. फ्रांस से उड़ान भरकर राफेल विमानों को दुबई में उतारा गया. जहां से वह आज भारत के लिए उड़ान भरेंगे.

आज अंबाला में लैंड करेंगे फ्रांस से आ रहे पांच राफेल लड़ाकू विमान, वायुसेना प्रमुख भदौरिया करेंगे अगवानी

First published: 29 July 2020, 8:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी