Home » इंडिया » First Rafale for India being flight-tested in France, only one will arrive custom-made
 

फ्रांस 36 विमानों में से सिर्फ एक राफेल तैयार करके भारत को देगा, 13 बदलावों की मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 September 2018, 11:48 IST

देश की राजनीतिक चर्चा में राफेल लगातार विवाद की वजह बना हुआ है. द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट की माने तो कुल 36 लड़ाकू विमानों में से भारत को फ्रांस सिर्फ़ एक ही तैयार विमान देगा. ये विमान उन बदलावों से लैस होगा जो भारत ने फ्रांस को सुझाए हैं.

शेष 35 विमान सितंबर 2019 से भारत में वितरित होने शुरू हो जाएंगे, लेकिन प्रति माह सात विमानों की दर से अनुबंध अवधि के बाद उन्हें भारत में इन वृद्धियों के साथ शामिल किया जाएगा. रिपोर्ट के अनुसार भारत ने राफेल विमानों में 13 बदलावों की मांग की है.

पढ़ें- अमेरिका की मदद से पाकिस्तान गुपचुप करना चाहता था ये काम, भारत ने दिया बड़ा झटका

जुलाई में राज्यसभा में दिए गए एक जवाब में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि संबंधित उपकरण और हथियारों केसाथ एक फ्लाई-अवे कंडीशन 36 राफेल विमानों की डिलीवरी सितंबर 2019 से शुरू होगी.

सूत्रों ने कहा कि भारत को 36 राफेल विमानों में से एक को आपूर्ति करने के लिए पिछले महीने फ्रांस में परीक्षण उड़ान शुरू हुई थी. सूत्रों ने कहा कि भारत-विशिष्ट बदलाव के साथ इस लड़ाकू जेट पर उड़ान परीक्षण कर रहा है, जो दो सीट वाले राफेल विमान (आरबी008) हैं.

यूपीए सरकार के दौरान 126-विमान एमएमआरसीए सौदे के लिए आईएएफ द्वारा दी गई आवश्यकताओं के अनुसार, भारत द्वारा मांगे गए 13 भारत-विशिष्ट बदलाव हैं. इनमें रडार एन्हांसमेंट, हेलमेट माउंटेड डिस्प्ले, टॉवड डेको सिस्टम, लो बैंड जैमर, रेडियो altimeter और उच्च ऊंचाई एयरफील्ड से शुरू करने और संचालित करने की क्षमता शामिल है.

फ्रांसीसी वायु सेना के साथ सेवा में राफेल विमान में ये अतिरिक्त क्षमताएं मौजूद नहीं हैं. जब बीजेपी सरकार ने 2016 में 36 राफेल विमानों के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, तो भारत-विशिष्ट संवर्द्धन की सूची में कोई बदलाव नहीं आया.

ये भी पढ़ें : बड़ी खबर: RBI ने तत्काल प्रभाव से बदल दिए कटे-फटे नोट चेंज करने के नियम, आप भी जानिए..

First published: 8 September 2018, 10:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी