Home » इंडिया » five year-old Explains Sexual Assault on Her to HC to Using Barbie Doll
 

मासूम बच्ची ने बार्बी डाॅल के ज़रिए जज को सुनार्इ हैवानियत की दास्तां

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 June 2017, 14:50 IST

5 वर्षीय बच्ची के साथ रेप के मामले में एक निचली अदालत ने बच्ची के बयान लेने के लिए अनोखा तरीका निकाला है. दुष्कर्म की आपबीती जानने के लिए कोर्ट ने बच्ची को एक गुड़िया दी. पीड़ित बच्ची ने गुड़िया के निजी अंगों को छूकर जज को अपने साथ होने वाली हैवानियत का सच बताया.

इसके बाद आरोपी को 23 साल की सजा सुनाई गई है. निचली अदालत के इस अनोखे तरीके की हाई कोर्ट ने भी तारीफ की है. मामले में सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति ने कहा कि बच्ची की गवाही पर किसी तरह का संदेह नहीं किया जा सकता है. बता दें कि समाज के डर से पीड़ित बच्ची के परिजनों ने मेडिकल टेस्ट करवाने से मना कर दिया था. इसी बात का फायदा उठाकर आरोपी ने हाई कोर्ट में याचिका दर्ज़ करते हुए कहा कि बच्ची के साथ किसी प्रकार की जोर-जबर्दस्ती नहीं की गई थी.

जज ने आरोपी के वकील के इन आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा कि शरीर के निशान नहीं मिलने का यह मतलब नहीं है कि बच्ची के साथ यह दुष्कर्म नहीं हुआ. जज ने जब बच्ची से पूछा कि जो आपकी गुड़िया के साथ हुआ, क्या वो आपके साथ भी हुआ. इस पर बच्ची ने हां में जवाब दिया. हाई कोर्ट ने कहा कि पांच साल की एक बच्ची से आप इससे ज्यादा क्या उम्मीद कर सकते हैं. बच्ची के बयान को महज इस तर्क पर खारिज नहीं किया जा सकता कि उसके निजी अंगों पर दोषी के नाखून के निशान नहीं मिले थे.

क्या था मामला ?

जानकारी के मुताबिक मामला 2014 का है. बाहरी दिल्ली स्थित नरेला इलाके में रहने वाली बच्ची अपने भाई के साथ स्कूल जा रही थी. उसी दौरान रास्ते में 23 वर्षीय आरोपी मिला, जिसने बच्ची के भाई को 10 रुपये देकर उसे चॉकलेट लेने भेज दिया. इसके बाद बच्ची को सुनसान जगह पर वह लेकर गया. जहां उसके साथ दुष्कर्म किया गया. आरोपी युवक बच्ची को ले जाते हुए पास में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया, जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया था.

First published: 17 June 2017, 14:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी