Home » इंडिया » fodder scam case: Lalu Prasad Yadav rjd chief and former bihar cm sentenced to five years in prison by Ranchi Court
 

चारा घोटाला: लालू यादव को CBI कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा, इस मामले में भी नहीं मिली ज़मानत

हेमराज सिंह चौहान | Updated on: 24 January 2018, 14:31 IST

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के एक और मामले में सजा सुनाई गई है. लालू को सीबीआई की रांची की स्पेशल कोर्ट ने 5 साल की सजा सुनाई है. लालू को चाईबासा कोषागार मामले में सजा सुनाई गई है. 

लालू इस समय चारा घोटाले के एक मामले में बिरसा मुंडा जेल में बंद है. लालू को अब इस मामले में जमानत के लिए भी ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटाया होगी. इस फैसले ने लालू की मुश्किलें और बढ़ा दी है. लालू को दो अन्य मामलों में 5 साल की और साढ़े तीन साल की सजा सुनाई हो गई है.

क्या है मामला?

चारा घोटाले का ये मामला 33.67  करोड़ रूपये का है. जब अवैध निकासी ये घोटाला हुआ तब वो बिहार के सीएम थे. कोर्ट ने इस मामले में बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री जगननाथ मिश्रा को भी दोषी करार दिया है. इन दोनों समेत 50 लोगों का इस घोटाल में बुधवार सुबह दोषी करार दिया. कोर्ट ने ने इस मामले में छह लोगों को बरी कर दिया है. चाईबासा मामले में बहस दस जनवरी को पूरी हो गयी थी और इस मामले में अदालत ने फैसला 24 जनवरी तक के लिए सुरक्षित कर लिया था. 

चारा घोटाले के इन मामलों हो चुकी है सजा

साल 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये का फर्जीवाड़ा करके अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के मामले में लालू समेत 22 लोग आरोपी हैं. सीबीआई ने 27 अक्तूबर, 1997 को इन सबके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. 21 साल बाद इस मामले में शनिवार को फैसला आ रहा है. बिहार में हुए चारा घोटाले के वक्त लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे.

लालू यादव को चारा घोटाले के एक मामले में सज़ा हो चुकी है. लालू प्रसाद यादव को साल 2012 में 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में चाईबासा कोषागार से 37 करोड़, 70 लाख रुपये की अवैध ढंग से निकासी करने के मामले मे 5 साल की सजा हो चुकी है. इस समय उन्हें सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में जमानत मिली है.

First published: 24 January 2018, 14:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी