Home » इंडिया » Fodder scam: verdict in scam lalu prasad yadav and jagannath mishra accused
 

चारा घोटाले में आज आएगा फैसला, बढ़ सकती हैं लालू यादव की मुश्किलें

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 March 2018, 8:37 IST

लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. आज लालू यादव के खिलाफ चारा घोटाले के चौथे मामले में फैसला आ सकता है. सीबीआई कोर्ट पांच में से चौथे मुकदमे पर आज अपना फैसला दे सकता है.

इससे पहले तीन फैसलों में कोर्ट ने लालू को सजा सुनाई है. चाईबासा मामले में कोर्ट ने लालू को पांच साल की सजा, देवघर मामले में साढ़े तीन साल की सजा और चाईबासा के एक और मामले में पांच साल की सजा सुना चुका है. लालू पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया जा चुका है. दुमका कोषागार से जुड़े मामले में अगर लालू प्रसाद यादव दोषी साबित होते हैं तो उन्हें 10 साल की सजा हो सकती है.

लालू के अलावा 31 लोग हैं आरोपी
इस मामले में लालू के अलावा पूर्व सांसद आरके राणा, जगदीश शर्मा सहित कुल 31 लोग आरोपी हैं. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार सीबीआई कोर्ट इस मामले की रोजाना सुनाई कर रही है. लालू पर झारखंड के चारा घोटाले से जुड़े पांच मामले दर्ज हैं, जिसमे से सतीन में उन्हें सजा सुनाई जा चुकी है, जबकि चौथे मामले में आज फैसला आ सकता है.

 

चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव के साथ-साथ दोषी करार दिए गए फूलचंद, महेश प्रसाद, बाके जूलियस, सुनील कुमार, सुशील कुमार, सुधीर कुमार और राजा राम समेत सभी को साढ़े तीन साल की सजा और पांच लाख रुपये जुर्माना लगाया गया था. चारा घोटाले से जुड़े मामले में आज सीबीआई की स्पेशल कोर्ट सजा सुनाएगी. विशेष जज शिवपाल सिंह आज फैसला सुनाएंगे.

चाईबासा कोषागार से जुड़े मामले में भी लालू प्रसाद यादव सजायाफ्ता हैं. एक दूसरे मामले में भी लालू प्रसाद यादव को इसी साल 5 साल की सजा हुई थी. एक मुकदमे में सजा के खिलाफ लालू प्रसाद यादव ने रांची उच्च न्यायालय में राहत के लिए जमानत याचिका भी दाखिल कर रखी है. हालांकि वहां से अब तक उन्हें किसी प्रकार की कोई राहत नहीं मिली है.

लालू यादव ने की एजी को आरोपी बनाने की मांग

इसी मामले में लालू प्रसाद यादव ने स्पेशल कोर्ट के न्यायाधीश की अदालत में एक आवेदन देकर उस वक्त के महालेखाकार को भी आरोपी बनाने की मांग की थी. लालू प्रसाद यादव की याचिका को भी कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है और इस मामले पर सुनवाई भी कोर्ट को करनी है. लालू प्रसाद यादव के वकील की दलील है कि एजी की रिपोर्ट में पशुपालन विभाग से हो रही फर्जी निकासी की चर्चा नहीं की गई थी.

चारा घोटाले से जुड़े एक अन्य मामले में बिहार के मुख्य सचिव अंजनी को भी अदालत ने आरोपी की तरह सम्मन जारी किया है. आज का फैसला लालू यादव के लिए अहम है. आज का फैसला लालू की मुश्किलें और बढ़ा सकता है.

ये भी पढ़ें- यूपी उपचुनाव: सपा-बीएसपी और कांग्रेंस के मिलने के बाद 2019 के लिए बदलेंगे रणनीति

First published: 15 March 2018, 8:37 IST
 
अगली कहानी