Home » इंडिया » Food regulator fssai government extends ban import
 

भारत ने चाइना को दिया फिर एक और तगड़ा झटका, 11 साल से राहत की कर रहा था उम्मीद

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 April 2019, 12:11 IST

भारतीयों द्वारा अक्सर चाइना के सामानों का विरोध प्रदर्शन होता रहता है. चीन भारत में अपने हर एक छो़टे-बड़े प्रोडक्ट बेचना चाहता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि चीन पर भारत में कुछ सामानों के बेचने पर प्रतिबंध लगा हुआ है. भारत द्वारा इन प्रोडक्ट पर काफी लंबे समय से रोक लगा हुआ है. वहीं कई ऐसे प्रोडक्ट हैं, जिनपर करीब 10 सालों से अधिक समय से बेचने पर प्रतिबंध लगाई गई है. चलिए जानते हैं उन प्रोडक्ट के बारे में जिनपर चीन में प्रतिबंध लगा हुआ है.

चीन पर भारत ने दूध और दूध से बने प्रोडक्ट जैसे- चॉकलेट्स, दही इत्यादि के प्रोडक्ट पर रोक लगाए हैं. अब इसकी समय सीमा बढ़ा दी गई है. चाइना पर यह प्रतिबंध 2008 से लगा हुआ है. भारत सरकार लगातार कई हर साल इस प्रतिबंध को आगे लगा देती है. चीन पर लगाई गई इस रोक की आखिरी समयसीमा मंगलवार थी, जो समाप्त हो गई थी. जिसे अब दोबारा आगे बढ़ा दिया गया है.


क्यों लगा है प्रतिबंध?

चीन के दूध प्रोडक्ट पर रोक लगाई गई है, जिसका कारण दूध के उत्पादों में रसायनिक पदार्थ मेलामाइन होने की आशंका बताई गई है. मेलामाइन एक ऐसा खतरनाक रसायन है, जिससे व्यक्ति की जान भी जा सकती है. इस रसायन का इस्तेमाल प्लास्टिक औऱ उर्वरक सामाग्री को बनाने के लिए किय़ा जाता है.

कब तक लगी रहेगी रोक?

FSSAI के मुताबिक, उन्होंने सरकार से सिफारिश की है कि चीन के दूध प्रोडक्ट पर तब तक रोक लगी रहे, जब तक बंदरगाहों की प्रयोशालाओं में रसायनिक पदार्थ के परीक्षण की फैसिलिटीज उपलब्ध ना हो जाए. ताकि दूध की सामाग्री में रसायन पदार्थ की जांच हो सके. FSSAI की इस सिफारिश को सरकार ने मानते हुए चीन पर लगे रोक को आगे बढ़ा दिया है. 

रेलवे यात्रियों को झेलनी पड़ सकती है भारी परेशानी, 2 मई तक के लिए ये ट्रेने हुईं रद्द

मालूम हो कि दूध उत्पादन में भारत दुनिया के पहले स्थान पर आता है. यहां हर साल करीब 15 करोड़ टन दूध के प्रोडक्ट का उत्पादन होता है. उत्तर प्रदेश में दूध का सबसे ज्यादा उत्पादन होता है. इसके बाद गुजरात और राजस्थान का नंबर आता है. 

First published: 24 April 2019, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी