Home » इंडिया » Foreign Secretary Vijay Gokhale: Credible intelligence was received that Jaish-e-Mohammed was attempting another suicide terror attack
 

एक और फिदायीन हमले की तैयारी में था जैश, पढ़िए वायुसेना की कार्रवाई पर विदेश मंत्रालय का पूरा बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 February 2019, 13:10 IST

बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद आतंकी ठिकानों पर भारत की कार्रवाई की विदेश मंत्रालय ने पुष्टि की है. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में विदेश मंत्रालय के सचिव वीके गोखले ने कहा कि बहावलपुर में जैश का मुख्यालय है जहां भारतीय वायुसेना ने कार्रवाई की. उन्होंने कहा कि एक ख़ुफ़िया सूचना के आधार पर यह कार्रवाई की गई है. विदेश सचिव ने कहा कि 20 साल से पाकिस्तान की जमीन से जैश-ए- मोहम्मद चल रहा है लेकिन वह इस पर कोई कार्रवाई नहीं करता है. 

विदेश सचिव गोखले ने कहा ''विश्वसनीय खुफिया जानकारी मिली थी कि जैश-ए-मोहम्मद देश के विभिन्न हिस्सों में एक और आत्मघाती हमले की कोशिश कर रहा था और फिदायीन जिहादियों को इस काम के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा था. 

ये रहा विदेश मंत्रालय का पूरा बयान 

14 फरवरी 2019 को पाक आधारित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा आत्मघाती आतंकी हमला किया गया, जिससे सीआरपीएफ के 40 बहादुर जवानों की शहादत हुई. JeM पिछले दो दशकों से पाकिस्तान में सक्रिय है, और बहावलपुर में इसके मुख्यालय के साथ मसूद अज़हर के नेतृत्व में है. यह संगठन, जिसे संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित किया गया है, दिसंबर 2001 में भारतीय संसद और जनवरी 2016 में पठानकोट एयरबेस सहित आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार रहा है. पाकिस्तान और पीओके में प्रशिक्षण शिविरों के स्थान के बारे में समय-समय पर पाकिस्तान को जानकारी दी गई है.

हालांकि, पाकिस्तान उनके अस्तित्व से इनकार करता है. सैकड़ों जिहादियों को प्रशिक्षित करने में सक्षम ऐसी विशाल प्रशिक्षण सुविधाओं का अस्तित्व पाकिस्तान अधिकारियों की जानकारी के बिना काम नहीं कर सकता था.
भारत बार-बार पाकिस्तान से जिहादियों को पाकिस्तान के अंदर प्रशिक्षित और हथियारबंद होने से रोकने के लिए जेएम के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह करता रहा है. पाकिस्तान ने अपनी धरती पर आतंकवाद के बुनियादी ढांचे को खत्म करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया है.''

विदेश मंत्रालय ने कहा ''विश्वसनीय खुफिया जानकारी मिली थी कि JeM देश के विभिन्न हिस्सों में एक और आत्मघाती आतंकी हमले की कोशिश कर रहा था और फिदायीन जिहादियों को इस काम के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा था. खतरे के सामने एक पूर्वनिर्धारित कार्र्रवाई बिल्कुल आवश्यक हो गई. आज के शुरुआती घंटों में एक खुफिया अभियान के तहत, भारत ने बालाकोट में JeM के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर पर हमला किया.

इस ऑपरेशन में, बहुत बड़ी संख्या में जेएम आतंकवादियों, प्रशिक्षकों, वरिष्ठ कमांडरों और जिहादियों के समूहों को, जिन्हें फिदायीन कार्रवाई के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा था, समाप्त कर दिया गया है. बालाकोट की इस सुविधा का नेतृत्व मौलाना युसूफ अज़हर कर रहा था, जो JeM के प्रमुख अज़हर का बहनोई था''.

विदेश मंत्रलय ने कहा ''भारत सरकार आतंकवाद के खतरे से लड़ने के लिए सभी आवश्यक उपाय करने के लिए दृढ़ और दृढ़ है. इसलिए इस गैर-सैन्य पूर्वव्यापी कार्रवाई को विशेष रूप से JeM शिविर में लक्षित किया गया था''.

Pok में आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई पर ममता बनर्जी ने भारतीय वायुसेना को दिया ये नया नाम

First published: 26 February 2019, 11:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी