Home » इंडिया » former governor ar kidwai pass away
 

पूर्व राज्यपाल एआर किदवई का निधन

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:20 IST
(एजेंसी)

बिहार और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल एआर किदवई का बुधवार को दिल्ली के एक अस्पताल में निधन हो गया. वह 96 वर्ष के थे. किदवई के परिवार में दो बेटे और चार बेटियां हैं. उनका अंतिम संस्कार जामिया कब्रिस्तान में किया गया.

किदवई के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, "डॉक्टर एआर किदवई के निधन से मैं व्यथित हूं. उनके लंबे सार्वजनिक जीवन में कई भूमिकाएं एवं जिम्मेदारियां शामिल हैं. शिक्षा और समाज कल्याण के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान करने वाले किदवई की आत्मा को ईश्वर शांति प्रदान करें."

वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने शोक संदेश में कहा, "बिहार, बंगाल और हरियाणा के पूर्व राज्यपाल डॉक्टर एआर किदवई के निधन से गहरा दुख हुआ."

भारत छोड़ो आंदोलन में भूमिका

साल 1920 में जन्मे अखलाक उर्रहमान किदवई बिहार के दो बार और पश्चिम बंगाल एवं हरियाणा के एक-एक बार राज्यपाल रहे. इसके अलावा उनके पास पंजाब और राजस्थान के राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार भी रहा और वह दिल्ली और चंडीगढ़ के प्रशासक भी रहे थे.

वर्ष 2000 से 2004 तक राज्यसभा का सदस्य रहने के अलावा उन्होंने 1974-78 तक संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के तौर पर भी सेवाएं दीं. उन्होंने 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में सक्रिय रूप से हिस्सा लिया था.

राज्यपाल सोलंकी और खट्टर ने जताया शोक

किदवई के निधन पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी ने भी दुख व्यक्त किया. खट्टर ने उन्हें अनुभवी राजनीतिज्ञ और एक महान शिक्षाविद् बताया.

राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी ने अपने शोक संदेश में कहा, "देश ने एक महान स्वतंत्रता सेनानी, एक गांधीवादी नेता, एक कुशल प्रशासक और एक शिक्षाविद् को खो दिया है. किदवई ने स्वतंत्रता संग्राम विशेष रूप से भारत छोड़ो आंदोलन में उल्लेखनीय योगदान किया."

First published: 25 August 2016, 3:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी