Home » इंडिया » former railway ministers reaction on rail budget
 

#RailBudget2016: क्या सोचते हैं रेल बजट पर पूर्व रेल मंत्री

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 February 2016, 19:13 IST

रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने मौजूदा एनडीए सरकार में अफना दूसरा रेल बजट पेश किया. किसी बड़ी योजना या आमूल बदलाव से दूर रहते हुए प्रभु के रेल बजट में तात्कालिक चुनौतियों से निपटने की चिंता झलक रही है. हालांकि, इस रेल बजट से तीन पूर्व केंद्रीय मंत्री नाखुश दिखे.

रेल बजट जनता से धोखा: लालू

पूर्व रेल मंत्री और राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने संसद में रेल मंत्री सुरेश प्रभु की ओर से गुरुवार को पेश किए गए रेल बजट को 'जनता से धोखा' करार दिया. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार में रेलवे पटरी से उतर गई है.

lalu-prasad-yadav2-1433490859.jpg

लालू प्रसाद ने पटना में रेल बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'बजट में कुछ भी नहीं है. बजट में रोजगार के अवसर खत्म होते दिख रहे हैं. सुरक्षा की कहीं कोई चर्चा नहीं की गई है. ट्रेन को निर्धारित समय पर चलाने को लेकर भी कोई बात नहीं की गई है. यह सीधे-सीधे जनता से धोखा है.'

बजट में सिर्फ औपचारिकताएं पूरी की गईं: नीतीश कुमार

पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को रेल बजट पर निराशा जताते हुए कहा कि इसमें सिर्फ औपचारिकताएं पूरी की गईं.

#‎RailBudget2016‬: क्या-क्या दिया इस रेल बजट ने?

उन्होंने कहा,  'इस बजट से बिहार को निराशा मिली है. नई परियोजनाओं के लिए भी रेलवे के पास कोई योजना नहीं है और न ही ट्रेनों के समय पर चलने व स्टेशनों की साफ-सफाई को ही प्राथमिकता दी गई है.'

patrika_nitish_embed2

नीतीश ने दावा किया, 'रेल मंत्री सुरेश प्रभु के बजट में 'विजन' की कमी साफ तौर पर दिख रही है और बजट में क्षेत्रीय संतुलन का भी ख्याल नहीं रखा गया है. इस रेल बजट में आशा की कोई किरण नजर नहीं आ रही है.'

बजट भ्रम फैलाने वाले बयानों का पुलिंदा है: त्रिवेदी


पूर्व रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी ने रेल बजट- 2016-17 की आलोचना करते हुए कहा कि यह एक भ्रमजाल, सरकार देश को दिग्भ्रमित कर रही है.

पढ़ें: यह रेल बजट भी बीत गया पर 5 समस्याएं जस की तस रहीं

उन्होंने कहा, 'प्रभु ने जो पेश किया है वह रेल बजट नहीं, बल्कि भ्रम फैलाने वाले बयानों का पुलिंदा है. इस बजट में न तो कोई सोच है और न ही इसकी कोई दिशा है.'

Dinesh-Trivedi--1.jpg

त्रिवेदी की नजर में सरकार ने एक बार फिर देश को बेवकूफ बनाया है. उनके मुताबिक, हकीकत में यह रेल बजट है नहीं है, क्योंकि बजट में कोई आंकड़ा था ही नहीं. इसमें सिर्फ वादे और बड़ी-बड़ी बातें की गईं हैं.

First published: 25 February 2016, 19:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी