Home » इंडिया » Former under secretary RVS Mani controversial statement on 26/11 attack says it was fix match
 

26/11 का मुंबई हमला UPA सरकार और पाकिस्तान के बीच फिक्स था- पूर्व अफसर का दावा

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2019, 12:28 IST

26/11 को मुंबई के ताज होटल पर हुए आतंकी हमले को लेकर गृह मंत्रालय के पूर्व अंडर सेक्रेटरी आरवीएस मणि ने तब की यूपीए सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है. मणि ने आरोप लगाया कि मुंबई हमला पाकिस्तान और तब की यूपीए सरकार के केंद्रीय गृह मंत्रालय का फिक्स्ड मैच था.

आरवीएस मणि ने गंभीर आरोप लगाते हुए दावा किया कि 26/11 के हमले के दिन केंद्रीय गृह मंत्रालय के ज्यादातर अधिकारी आतंकवाद पर होने वाली सालाना गृह सचिव स्तर की वार्ता के लिए पाकिस्तान के इस्लामाबाद पहुंचे थे और यह हमला हो गया. मणि ने दावा किया कि पहले ये वार्ता 25 तारीख को होनी थी, लेकिन वहां पहुंचकर उसकी तारीख बढ़ाकर 26 कर दी गई.

मणि के अनुसार, उस दिन उन्हें लखनऊ भेज दिया गया था और फिर मुंबई में आधी रात को हमला हो गया. मणि ने आरोप लगाया कि हिंदू आतंकवाद को साबित करने के लिए जानबूझकर यूपीए सरकार में मौजूद तब के कुछ बड़े नेताओं और पुलिस अफसरों ने इसे मिलकर प्रचारित किया था. इसके बाद इसके सबूत गढ़े गए.

मणि ने कहा कि तब सरकार और अफसरों का मोटिव क्या था, यह मुझे नहीं मालूम, लेकिन इस वजह से असली आतंकी बचकर निकल गए. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शुक्रवार को राष्ट्रीय सुरक्षा मंच की तरफ से आरवीएस मणि अपनी बुक 'हिंदू टेरर- इनसाइडर एकाउंट ऑफ मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर' को लेकर एक विमर्श में हिस्सा लेने भोपाल पहुंचे थे. इस मौके पर उन्होंने यह सारी बातें कही.

रिपोर्ट्स के अनुसार यहां पर उनकी किताब के हिंदी संस्करण 'भगवा आतंक एक षडयंत्र' पर चर्चा थी. इस मौके पर उन्होंने कहा कि वे पुस्तक प्रकाशक के बुलावे पर भोपाल आए हैं. बता दें कि 26 अप्रैल को उनकी किताब का हिंदी संस्करण लॉन्च हुआ है.

इस दौरान 'द ग्रेट इंडियन कांस्पिरेसी' और 'आतंक से समझौता' नामक बहुचर्चित पुस्तक लिखने वाले लेखक प्रवीण तिवारी भी मौजूद थे. उन्होंने भी कांग्रेस नेताओं पर हिंदू आतंकवाद गढ़ने का आरोप लगाया. प्रवीण तिवारी ने दावा किया कि 26/11 के ज्यादातर आतंकवादियों के हाथ में कलावा और गले में हिंदू धर्म के लॉकेट थे. इस बात की पुष्टि अमेरिका में पकड़े गए आतंकी डेविड हेडली ने की है. आरोप लगाया कि अगर कसाब जिंदा न पकड़ा जाता तो सारे आतंकियों को हिंदू आतंकी घोषित कर दिया जाता. लेकिन कसाब के पकड़े जाने से यह षडयंत्र सफल नहीं हो सका.

नागरिकता पर सवाल, अक्षय कुमार ने कही दिल छूने वाली बात- 'भारत से करता हूं प्यार और..'

First published: 4 May 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी