Home » इंडिया » freedom 251 owner mohit goyal extortion from gangrape accused in honeytrap
 

सबसे सस्ते फोन का दावा करने वाले मोहित गोयल की एक और करतूत, हनीट्रैप मामले में दबोचा गया

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2018, 11:36 IST

दिल्ली पुलिस ने एक हाई प्रोफाइल हनीट्रैप रैकेट का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने गैंगरेप के एक मामले को पैसे लेकर रफा-दफा करने के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. चौंकाने वाली बात यह है कि इस मामले में 251 रुपये में मोबाइल फोन लांच कर तहलका मचाने वाली कंपनी के मालिक मोहित गोयल को गैंगरेप के आरोपियों से पैसे वसूलते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया है. मोहित गोयल और उनके एक अन्य साथी विकास मित्तल को आरोपियों से 25 लाख रुपये लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया.

बता दें कि राजस्थान के भिवाड़ी में बीते महीने 6 मई को एक गैंगरेप काफी चर्चा में आया था. खबर आई थी कि 6 मई को राजस्थान के अलवर में पांच युवकों ने दिल्ली की एक महिला से गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था. फिर पुलिस ने होटल से पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था और उनके चंगुल से पीड़िता को मुक्त करा लिया था.

खबर थी कि 30 वर्षीय पीड़िता दिल्ली में इवेंट मैनेजमेंट का काम करती है. युवती ने आरोप लगाया था कि आरोपियों ने उससे भिवाड़ी में अपनी कंपनी के लिए एक इवेंट ऑर्गनाइज करवाने के बहाने उसे अपने साथ दिल्ली से भिवाड़ी लेकर गए थे. वहां एक होटल में उन्होंने पीड़िता को ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया. इसके बाद पांचों ने युवती के साथ रेप किया था. पीड़िता ने शाम को होश में आने के बाद दिल्ली में अपनी एक सहेली को मैसेज भेजकर अपनी आपबीती बताई.

अब इस मामले ने बड़ा करवट लिया है. दरअसल ये पूरा मामला हनीट्रैप का निकला, जिसमें पीड़ित महिला ने ढाई करोड़ की मांग की थी. उगाही की रकम के तीस लाख लेते उसे दिल्ली में रंगे हाथ पकड़ लिया गया. पुलिस को आशंका है कि मोहित गोयल अपने अन्य साथियों के साथ यह हाई प्रोफाइल हनीट्रैप रैकेट चलाता है. रैकेट की महिला सदस्य अमीर कारोबारियों को फंसाती है फिर केस वापस लेने के नाम पर आरोपियों से करोड़ों रुपयों की मांग की जाती है.

पढ़ें- वेदांता के तूतीकोरिन प्लांट के बंद होने से 800 कंपनियों का कारोबार पड़ सकता है ठप

पीड़ित परिवार वालों का कहना है पीड़िता और उसके साथियों ने आरोपी परिवार के सामने पहले 10 करोड़ रुपये की डिमांड रखी. फिर मामले को रफा-दफा करने के लिए हम 2.5 करोड़ रुपये देने को तैयार हो गये. वहीं पुलिस का कहना है कि गैंगरेप की शिकायत करने वाली महिला ने अब तक आरोपी परिवार से 1.1 करोड़ रुपये की वसूली कर चुकी है.

परिवार वालों ने बताया कि कुछ महीने पहले एक महिला आरोपियों के संपर्क में आई और उसने बताया की वह इवेंट मैनेजमेंट का काम करती है. जिसके बाद एक इवेंट के सिलसिले में महिला पांचों आरोपियों के साथ राजस्थान के भिवाड़ी गई, जहां वे एक होटल में रुके. अगले ही दिन महिला ने पांचों के खिलाफ गैंगरेप का केस दर्ज कराया. केस दर्ज कराने के कुछ ही समय बाद महिला और उसके साथियों ने आरोपियों के परिवार वालों से संपर्क किया. उन्होंने आरोपियों के परिवार वालों से पैसे लेकर केस वापस लेने की बात कही.

इसके बाद परिवार वाले केस रफा-दफा करने के लिए उन्हें पैसे देने को राजी हो गए. लेकिन पहली किस्त लेने के बाद जब डिमांड और बढ़ने लगी तो परिवार वालों को इन पर शक हुआ. फिर आरोपियों के परिवार वालों ने नेताजी सुभाष प्लेस पुलिस से इसका शिकायत की. रविवार को वह अपने साथियों के साथ गैंगरेप आरोपी से 30 लाख रुपये की वसूली करने नेताजी सुभाष प्लेस के इस शॉपिंग मॉल में आई. इसके बाद पुलिस ने तीनों को आरोपियों को रंगे हाथों 25 लाख की रकम लेते हुए गिरफ्तार कर लिया.

आपको बता दें कि गोयल दुनिया का सबसे सस्ता फोन देने वाली कंपनी रिंगिंग बेल के संस्थापक थे और 2016 में कंपनी ने अविश्वसनीय मूल्य सिर्फ 251 रुपये में फ्रीडम 251 स्मार्टफोन की पेशकश करके खूब सुर्खियां बटोरी थी. फ्रीडम 251 स्मार्टफोन के लिए 30,000 ग्राहकों ने भुगतान किया था और फोन को ऑनलाइन बुक किया. रिंगिंग बेल ने बाद में अमेज़ॅन इंडिया के माध्यम से कई अन्य मॉडलों और सहायक उपकरण के साथ फोन बेचना शुरू कर दिया. तब कंपनी को पुलिस और टैक्स अधिकारियों द्वारा पूछताछ का सामना करना पड़ा और आखिरकार बाद में इसे बंद करना पड़ा.

First published: 11 June 2018, 11:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी