Home » इंडिया » Fresh controversy erupts over Taj Mahal: shut down friday prayer inside Taj Mosque
 

ताजमहल पर नया विवाद: नमाज़ बंद हो या फिर शिव चालीसा पढ़ने दी जाए

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 October 2017, 15:57 IST

योगी आदित्यनाथ के दौरे के बावजूद ताजमहल पर विवाद थमता नज़र नहीं आ रहा है. नई बहस में कहा गया है कि ताज परिसर में हर शुक्रवार को होने वाली नमाज़ बंद कर दी जाए या फिर हिंदू धर्म के मानने वालों को यहां शिव चालीसा पढ़ने की इजाज़त दी जाए.

वहीं ताज परिसर स्थित मस्जिद के इमाम सादिक अली ने एक टीवी चैनल से हुई बातचीत में कहा है कि शिव चालीसा मस्जिद या कब्रिस्तान में नहीं होती. उन्होंने अपील की है कि इस विवाद को ख़त्म किया जाना चाहिए. यह नया विवाद शुक्रवार को शुरु हुआ है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की इतिहास विंग अखिल भारतीय इतिहास संकलन समिति ने आपत्ति जताई थी कि ताजमहल में नमाज़ पर रोक लगनी चाहिए.

आरएसएस की इतिहास विंग का कहना है कि ताजमहल एक राष्ट्रीय संपत्ति है जहां मुसलमानों को अपने धार्मिक कामकाज की इजाज़त नहीं मिलनी चाहिए. विंग का साफतौर पर कहना है कि ताजमहल में नमाज़ पढ़ने की प्रक्रिया पर पाबंदी लगा देनी चाहिए.

First published: 27 October 2017, 15:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी